Scrollup
  • आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट आने के बाद वह बात सही साबित हो गई है जो आम आदमी पार्टी द्वारा नोटबंदी के वक्त व्यक्त की गई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 8 नवंबर, 2016 को नोटबंदी की घोषणा किए जाने के बाद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने वापस आई मुद्रा के अंतिम आंकड़े सामने रखे हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 15,44,000 करोड़ रुपए की मुद्रा को डीमोनेटाइज़ किया गया था जिसमें से 15,28,000 करोड़ रुपए वापस आ गए हैं, और करीब 16,000 करोड़ रुपए वापस नहीं आए हैं। ये आंकड़े आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी द्वारा व्यक्त की गई चिंताओं की पुष्टि करते हैं।

इस मुद्दे पर प्रैस कॉंफ्रैंस को संबोधित करते हुए, राष्ट्रीय प्रवक्ता और पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा, “जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि सरकार बड़े नोट बंद कर रही है, तो ‘आप’ और अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि यह देश के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला है। हमने तब कहा था कि यह फ़ैसला देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट कर देगा, बेरोजगारी में वृद्धि होगी, छोटे व्यवसाय बर्बाद होंगे, और सामान्य भारतीयों को सबसे अधिक नुकसान होगा। ”

“15 अगस्त को मोदी ने लाल किले से दावा किया कि नोटबंदी के बाद 3 लाख करोड़ रुपये का काला धन निकाला गया है। यह आंकड़ा आरबीआई के गवर्नर द्वारा दिए गए तथ्यों से एकदम अलग है क्योंकि आरबीआई गवर्नर ने लोकसभा कमेटी को सूचित किया है कि नोटों की गिनती जारी है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि आरबीआई ने 27 नवंबर 2016 को कहा था कि 14,18,000 करोड़ रुपये को डीमोनेटाइज़ किया गया है लेकिन अब आरबीआई दावा कर रही है कि यह आंकड़ा वास्तव में 15,44,000 करोड़ रुपए है। ये लोग ख़ुद तय नहीं कर पा रहे हैं कि यह आंकड़ा आख़िर है क्या।

अब सवाल यह उठता है कि क्या यह अतिरिक्त मुद्रा की राशि आरबीआई ने नकली नोटों में प्राप्त की है? क्या आरबीआई देश को झूठ बोल रही है? इन सवालों का जवाब देना चाहिए।”

” डीमोनेटाइज़ करने की यह नीति एक बड़ी विफलता है। आरबीआई के दावों में 1,10,000 करोड़ रुपये की विसंगति मिलती है। 21,000 करोड़ रुपये नए नोट की प्रिंटिंग में खर्च किए गए थे। देश ने इस पूरे अभ्यास में 1,31,000 करोड़ रुपये गंवाए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भारत के लोगों को जवाब देना चाहिए और उन्हें इस बड़े नुकसान पर देश के लोगों को स्पष्टीकरण देना चाहिए। ”

पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और वरिष्ठ नेता आशुतोष ने कहा, “यह केवल एक घोटाला ही नहीं था, बल्कि यह अर्थव्यवस्था के स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक था। पिछले साल जनवरी से मार्च 2016 की तिमाही के बीच जीडीपी की वृद्धि 8.5% थी और इस साल यानि 2017 की इसी अवधि में जीडीपी वृद्धि सिर्फ़ 6.1% रह गई है। नोटबंदी के बाद से विनिर्माण क्षेत्र के विकास में भी भारी गिरावट दर्ज़ की गई है। “

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

Leave a Comment