Scrollup
  • वरिष्ठ नेता, एमसीडी में नेता विपक्ष और पार्षदों ने लिया बैठक में हिस्सा
  • एमसीडी में बीजेपी द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार को रोकने के लिए तैयार की गई रणनीति
  • एमसीडी में बड़े पैमाने पर व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ आक्रामक प्रतिक्रिया की ली गई प्रतिज्ञा

एमसीडी के लिए शैडो कैबिनेट बनाने के एक दिन बाद दिल्ली में आम आदमी पार्टी मुख्यालय में पहली बैठक आयोजित की गई, जिसमें एमसीडी में भाजपा के भ्रष्टाचार को रोकने के तरीके की योजना बनी। यह बैठक पार्टी के वरिष्ठ नेता दिलीप पांडे की अध्यक्षता हुई  जिसमें विधायक संजीव झा, विधायक अनिल वाजपेयी, विधायक जरनैल सिंह, तीनों निगमों के नेता विपक्ष और आम आदमी पार्टी के सभी पार्षद और एल्डरमैन शामिल थे।

विधायक संजीव झा उत्तरी एमसीडी की देखरेख करेंगे, वहीं विधायक अनिल बाजपेई पूर्वी एमसीडी के प्रभारी होंगे और विधायक जरनैल सिंह साउथ एमसीडी की शैडो कैबिनेट के सदस्यों और अन्य पार्षदों के समन्वयक की भूमिका में होंगे। शैडो कैबिनेट के सारे कामकाज पार्टी के वरिष्ठ नेता दिलीप पांडे की देखरेख में होंगे।

बैठक में दिल्ली के तीन निगमों में व्याप्त बड़े भ्रष्टाचार के मुद्दों पर चर्चा की गई और उन मुद्दों को कैसे उठाना है उसे लेकर बिंदुवार एक कार्य योजना तैयार की गई। यही बैठक का प्रमुख ऐजेंडा रहा।

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दिलीप पांडे ने कहा कि “हमने एमसीडी के विभिन्न मुद्दों और समस्याओं पर चर्चा की, जाहिर है भ्रष्टाचार मुख्य समस्या है और इसके बारे में भी व्यापक चर्चा हुई। हम पूरी आक्रामकता के साथ बीजेपी के भ्रष्टाचार का विरोध करेंगे और भाजपा की भ्रष्ट सिस्टम को रोकने के लिए पूरी ताक़त के साथ लड़ेंगे क्योंकि इस भ्रष्टाचार में बीजेपी और कांग्रेस दोनो एक थाली के चट्टे-बट्टे हैं, इन दोनों ने सरकारी खजाने को मिलकर लूटा है।  आम आदमी पार्टी एमसीडी में बीजेपी-कांग्रेस की मिलीभगत को उजागर करेगी ”

एमसीडी और इसकी शैडो कैबिनेट की समन्वय समिति, नियमित अंतराल पर बैठक करेगी और समय की आवश्यकता के अनुसार रणनीतियों को अमली जामा पहनाएगी।

इससे पहले, आम आदमी पार्टी ने सोमवार 4 दिसंबर को सभी तीनों एमसीडी में शैडो कैबिनेट का गठन किया था।

AAP का लंबे समय से यह मानना है कि एमसीडी में कई सालों से बीजेपी द्वारा भ्रष्ट तरीके से चलाए जा रहे हैं एमसीडी के सिस्टम को हमेशा कांग्रेस पार्टी समर्थन करती आई है। कांग्रेस ने एमसीडी में कई वर्षों से बीजेपी के भ्रष्ट सिस्टम को लेकर कभी कोई दखल नहीं दिया क्योंकि कांग्रेस के पार्षद भी उसी भ्रष्ट व्यवस्था का हिस्सा हैं।

इसीलिए उत्तरी, पूर्वी और दक्षिणी एमसीडी के लिए स्वास्थ्य, उद्यान और सफाई, सड़क एवं वर्क्स और स्कूलों के लिए शैडो कैबिनेट का गठन किया गया। शैडो कैबिनेट वक्त-वक्त पर उपरोक्त श्रेणी के दफ्तरों और अस्पतालों का दौरा करती रहेगी और आम आदमी को होने वाली समस्याओं को उठाती रहेगी और बीजेपी और कांग्रेस द्वारा जो MCDs में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार चल रहा है उसका पर्दाफ़ाश करती रहेगी।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

2 Comments

    • John Ferns

      AAP should keep an eagle eye on them who encourage voting through EVM. They are just 1%.
      Total 99% Indians wanted election with the Ballot Paper.
      Once they are caught, please shame them in front of their Children & Grand Children.
      Let their Family knows that EVM Manipulators are spoiling the future of India & Indians.

      reply
    • Manish Agarwal

      Welldone

      reply

Leave a Comment