Scrollup

Office of the Chief Minister, Government of Delhi

New Delhi: 7 August 2019

Delhi Anganwadis to be developed like high-end playschools: Shri Arvind Kejriwal

· Delhi model of Anganwadi reforms will be lead the way for the country: Shri Manish Sisodia

· CM launches mega programme for the distribution of smart phones for around 10,000 Anganwadi workers

· CM also launches Early Childhood Care Curriculum

Chief Minister, Shri Arvind Kejriwal and Deputy Chief Minister, Shri Manish Sisodia on Wednesday addressed more than 10,000 Anganwadi workers at the Indira Gandhi Stadium.

The mega-programme was organised to distribute smartphones to all workers in an effort to digitise all operations of the Anganwadi sector. On this occasion, Delhi government’s ambitious Early Childhood Care Curriculum was also launched.

The smartphones being provided are aimed at reducing the administrative burden of Anganwadi workers and improving the efficiency of the department. It will also help to maintain a real time monitoring mechanism of the status of all centres. This will be a major step towards enhancing the quality of Anganwadis in the city.

Chief Minister, Shri Arvind Kejriwal said at the event, “There is a perception that Anganwadis are merely centres for providing food to children. Children would come, they were given food and sent back. Now an Early Childhood Care Curriculum is being introduced so that Anganwadis provide the kind of care and education that is provided at the expensive playschools. Even the poor will have access to the facilities that the rich do. Anganwadis will now be developed into playschools.”

Deputy Chief Minister, Shri Manish Sisodia, who is also the Minister for Women and Child Development said, “Across the world it has been acknowledged that 80% of children’s’s brain development takes place by the age of 6. But India has continued to neglect early childhood care. Delhi’s Anganwadi reforms are an effort to change that, and build a model for the country.”

Speaking about the smartphones being provided to the 10,000 workers, Mr Kejriwal said, “Whenever governments have to provide electronic appliances to people on a large scale, ordinarily they provide substandard products. But we are providing you a high end phones, ones that ministers, IAS officers use. You don’t have to worry about the data charges either, the government will take care of it.”

“Earlier you would have to maintain 11 or 12 registers monthly at each Anganwadi. Now using this smartphone, you will be able to enter everything into our database and the government will directly have access to that information. This is a digitisation of the entire Anganwadi sector that will not only benefit you, but also the department,” the Chief Minister said.

Stressing on his government’s commitment to the welfare of Anganwadi workers, the chief minister said, “I recall that many of you had come to us with the low salary problem. We could have hiked your salary then as per the norm by 10 or 20%, which was also what you had demanded. Instead we had hiked your wages by 100%. Delhi’s Anganwadi workers may now be the highest paid in the country.”

“If you are unhappy at your workplace, how will you improve the conditions there? We have tried to rid your work environment of all the difficulties you would face. If you ask for a salary hike now, we will grant it. Don’t worry about your salary, it is my job to keep you happy. But then it is your responsibility to keep Delhi’s children happy. I won’t give you reason to complain, but then you cannot give Delhi’s parents any reason to complain too,” said Mr Kejriwal.

Laying out his vision for the sector, the Chief Minister said, “Today whenever someone talks about electricity, water, schools, hospitals, Mohalla clinics, people across the country vouch for the work being done in Delhi. It is my dream that soon Delhi should also be known at the state where Anganwadis are the best. The same system was running for the last 70 years and had run government schools to the ground. But over the last five years, it was the same set of individuals who turned around the schools of Delhi. We didn’t replace the teachers or Principals, we just gave them a better environment to work in. Now the same 10000 Anganwadi workers who were neglected by earlier governments will turnaround the Anganwadis of Delhi.”

Speaking about his government’s programmes, the chief minister also said, “People would come to me asking for special favours to appoint them as Anganwadi workers. I am not in the business of doing anyone out of turn special favours. Even my son doesn’t get such benefits. But that’s when I realised that Anganwadi workers are coming from poor households, who are trying very hard to make ends meet. For all of you we have taken the step of making electricity free up to 200 units. Isn’t this another way of hiking your salaries? Won’t this help you to run your households better? Even your water is free. Your children are studying in government schools. Manish Sisodia has transformed these schools as well. We want your children to live better lives, become doctors, engineers. They should not have to face the hardships that you may have faced. We have also made provisions to send the elderly in your families on a tirth yatra.”

Deputy Chief Minister, Shri Manish Sisodia said, “Today we are launching the Early Childhood Care Curriculum along the lines of the world’s best early childhood care methodologies. In 5-6 months people will start coming to you to get advice on how to provide quality child care. The chief minister was very happy when I took this scheme to him. He is very concerned about the welfare of Anganwadi workers. He directed us to also provide usage charges for data along with the smartphone. Delhi is the only state where every single Anganwadi worker is being provided with a smartphone.”

Mr Sisodia told the gathering that the government overcame all obstacles in ensuring that Anganwadi workers get quality smartphones and the entire process took more than a year.

“It has become a practice that if something is to be provided the mindset is that complete a formality by providing something ordinary. We were determined that if mobile phones are to be provided to Anganwadi workers, these must be instruments which will help them professionally in reducing their physical workload,” Mr Sisodia said.

The Deputy Chief Minister said the mindset that Anganwadis are places where young children are only to be fed, has to change. “Nutrition is an important component in Anganwadis functioning, but we will turn these into such centres of children learning that these will become models for the rest of the country.”


मुख्यमंत्री कार्यालय, दिल्ली सरकार

नई दिल्ली : 07/08/2019

प्ले- स्कूल की तरह दिल्ली की आंगनबाड़ियों में बच्चों को मिलेगा माहौल: श्री अरविंद केजरीवाल

*सीएम केजरीवाल ने 10000 आंगनबाड़ी वर्कर्स को बांटे उन्नत किस्म के स्मार्टफोन, सभी हुए ऑनलाइन। *

आंगनबाड़ी के बच्चों के लिए लाॅन्च किया अर्ली चाइल्डहुड केयर कैरिकुलम

दिल्ली सरकार आंगनबाड़ी केंद्रों को हाईटेक कर रही है। उन्हें प्ले-स्कूल जैसा माहौल देने की कोशिश की जा रही है। इसी क्रम में आज दिल्ली सरकार ने आंगनबाड़ी केंद्रों में कार्यरत 10000 वर्कर्स को स्मार्टफोन प्रदान किए। साथ ही बच्चों के लिए अर्ली चाइल्डहुड केयर कैरिकुलम लाॅन्च किया गया।

इस अवसर पर मौजूद दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बताया कि अब आंगनबाड़ी केंद्रों को कंप्यूटराइज्ड किया जा रहा है। यहां काम कर रही वर्कर्स को अब 11-12 रजिस्टर मेन्टेन नहीं करने होंगे। वह स्मार्टफोन के जरिए ही पूरी जानकारी दे सकेंगी। उन्होंने कहा कि 2015 से पहले आंगनबाड़ी केंद्र केवल खाना बांटने के सेंटर की तरह जाने जाते थे। इसमें हमने बदलाव किया है। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि सभी को समान शिक्षा मिले। अमीर लोग अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल, प्ले स्कूल में दाखिला करा देते थे। जबकि गरीबों के पास सरकारी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्रों का ही रास्ता बचता था। इसलिए हम ऐसा माहौल दे रहे हैं कि आंगनबाड़ी केंद्रों को भी प्ले स्कूल की तरह विकसित किया जा सके।

मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज जब देश में बिजली, पानी, हेल्थ, सरकारी स्कूलों की बात की जाती है तो दिल्ली में अच्छे काम का जिक्र होता है। इसी तरह आने वाले साल में हम आंगनबाड़ी केंद्रों में भी इस तरह के बदलाव करना चाहते हैं। जहां बच्चों को बुनियादी शिक्षा और उचित पोषक आहार मिले।

मोबाइल का खर्चा भी देगी दिल्ली सरकार

जिन आंगनबाड़ी वर्कर्स को स्मार्टफोन दिए गए हैं, उनके मोबाइल का खर्च भी दिल्ली सरकार ही वहन करेगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि आंगनबाड़ी वर्कर्स गरीब घर से आती हैं, उनकी सैलरी आदि को लेकर कई समस्याएं थीं। सबसे पहले हमने उनकी समस्याओं को दूर करने का प्रयास किया। उनकी सैलरी डबल कर दी। गरीबों को फ्री बिजली-पानी की सुविधा दी। उन्होंने कहा कि आगे भी जो समस्या होंगी, उन्हें दूर किया जाएगा। जब आप दुखी होगे तो आपका काम में मन नहीं लगेगा। आपको हमने खुश किया है, अब आपका काम इन बच्चों को खुश करना है।

दिल्ली में बदली सरकारी स्कूलों की तस्वीर

उन्होंने दिल्ली सरकार के सरकारी स्कूलों की व्यवस्था का जिक्र करते हुए कहा कि आज दिल्ली के स्कूलों का माहौल बदल दिया। इससे दिल्ली के सरकारी स्कूलों में कार्यरत टीचर्स और हेडमास्टर का नाम हो रहा है। ये वही टीचर और हेडमास्टर हैं जो पहले से पढ़ाते आ रहे थे, हमने उनको नहीं बदला, सरकारी स्कूलों के माहौल को बदल दिया।

आंगनबाड़ी वर्कर्स को मिलेगी राहत

गौरतलब है कि अभी तक आंगनबाड़ी वर्कर्स को 11-12 रजिस्टर अपने साथ रखने पड़ते थे, अपने सेंटर का रिकार्ड रखने के लिए। लेकिन सारा काम कंप्यूटराइज्ड होने से अब वह स्मार्टफोन के जरिए आॅनलाइन सारी जानकारी मुहैया करा सकेंगी। दिल्ली सरकार के इस कदम से आंगनबाड़ी में फर्जीवाड़ा की संभावनाएं भी कम हो जाएंगी। इन आंगनबाड़ी वर्कर्स को उन्नत किस्म का स्मार्टफोन दिया गया है, जिसे अधिकारी वर्ग वगैरह यूज करते हैं। इस अवसर पर दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, मुख्य सचिव विजय गोयल समेत हजारों की संख्या में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मौजूद रहीं।

बच्चों के 80 प्रतिशत दिमाग को विकसित करने पर काम शुरू किया आप सरकार ने: श्री मनीष सिसोदिया

इस अवसर पर दिल्ली के डिप्टी सीएम श्री मनीष सिसोदिया ने कहा सारी दुनिया में 6 साल से कम के बच्चों को अच्छी पढ़ाई की व्यवस्था कर रखी गई है। लेकिन हमारे देश में ऐसा नहीं है। देश में आज पहली बार राजधानी दिल्ली में यह योजना शुरू की गई है, जिससे बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्रों में प्ले स्कूल जैसा माहौल मिले। जो बड़े परिवारों की प्ले स्कूल में लर्निंग होती है, वही लर्निंग आंगनबाड़ी पहुंचने वाले बच्चों को मिले।

नए लाॅन्च किए गए कैरिकुलम को तैयार करने वाली टीम को धन्यवाद देते हुए श्री सिसोदिया ने कहा कि चार-पांच महीने इंतजार कर लीजिए, कैरिकुलम की कापी मांगने देशभर की सरकारें यहां आएंगी। हिमाचल के मंत्री यहां आए थे, उन्होंने इस कार्य की काफी तारीफ भी की थी। आंगनबाड़ी केंद्रों में चल रही पूर्व की व्यवस्थाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सारी दुनिया के वैज्ञानिक कहते हैं कि 6 साल में बच्चे का 80 परसेंट दिमाग डेवलप हो जाता है, लेकिन हम यहां केवल खाना खिलाने तक इंटरेस्ट रखते हैं। अब उनके खुश रहने, उनके दिमाग को डेवलेप करने पर काम शुरू हुआ है।
उन्होंने बताया कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के हितों का ध्यान रख रहे हैं। उन्होंने उनकी सैलरी 5 हजार से बढ़ाकर दस हजार कर दी। ये देश के इतिहास में पहली बार हुआ, वर्कर्स की सैलरी डबल की गई हो। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों को प्ले स्कूल जैसा माहौल मिले। इसके लिए यहां की वर्कर्स को सैलरी, लीव भी उन्ही की तरह मिले। इस ओर दिल्ली सरकार काम कर रही है। इस दौरान सिसोदिया ने खुले मंच में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से बात भी की और उनकी समस्याओं को भी जाना। उन्होंने कहा कि दिल्ली के 6 लाख बच्चों का भविष्य उनके हाथों में हैं, आप दिल्ली के बच्चों का भविष्य संवारें। उन्होंने कहा कि जिस तरह गवर्नमेंट स्कूलों का माहौल बदला है, हम चाहते हैं कि उसी तरह अब आंगनबाड़ी में बच्चों को भेजकर अभिभावक खुश हों।

मिला उन्नत किस्म का स्मार्टफोन

उन्होंने कहा कि हम चाहते थे कि मंत्रियों, अधिकारियों के हाथों में जिस तरह का फोन होता है, हम चाहते थे कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के पास भी ऐसा फोन हो। इसको लेकर काफी विरोध भी हुआ। अच्छी क्वालिटी का फोन दिलाने के चलते ही हम एक साल लेट भी हो गए। सरकार अब उनके डेटा का खर्चा भी वहन कर रही है। सारा काम ऑनलाइन होने से सरकारी दफ़्तरों चक्कर लगाने से भी छुट्टी मिलेंगीं। अब सब काम सभी डाँटा मोबाइल ही बना कर भेज दिये जाएँगे।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

firoz

1 Comment

    • John Ferns

      Giving one Smart Phone along with Free wi-fi to each household in the Poor Villages will make AAP the known party to each person in that house. Modia is not showing anything good about AAP.

      reply

Leave a Comment