Scrollup

AAP/Press Release 3/9Feb2018

तीनों निगमों के AAP पार्षद सिविक सेंटर पर करेंगे मेयर के इस्तीफ़े की मांग को लेकर प्रदर्शन

उत्तरी दिल्ली नगर निगम की मेयर पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगने के बाद यह अनैतिक होगा कि निगम के बजट सत्र में सदन उन्हीं मेयर साहिबा की अध्यक्षता में चलेगा। आम आदमी पार्टी ने इस सम्बंध में शुक्रवार को पार्टी कार्यालय में तीनों निगमों के पार्षद, एल्डरमैन एंव अन्य नेताओं की बैठक बुलाई जिसमें यह तय किया गया कि आम आदमी पार्टी मेयर के इस्तीफ़े की मांग करते हुए सिविक सेंटर पर प्रदर्शन करेगी जिसमें पार्टी के सभी पार्षद, नेता विपक्ष और एल्डरमैन शामिल होंगे।

आम आदमी पार्टी वरिष्ठ नेता एंव राष्ट्रीय प्रवक्ता दिलीप पांडे ने कहा कि ‘उत्तरी दिल्ली नगर निगम की मेयर साहिबा प्रीति अग्रवाल पर भ्रष्टचार के गंभीर आरोप हैं और इसको लेकर आम आदमी पार्टी ने मेयर साहिबा के इस्तीफ़े की मांग की थी।

आपको याद होगा कि भाजपा ने निगम चुनाव से पहले नए चेहरे और नई उड़ान के नाम एक अलग तरह का प्रशासन निगम में देने का वायदा दिल्ली की जनता से किया था लेकिन हक़ीकत यह है कि निगम में बैठे भारतीय जनता पार्टी के नेता अभी भी भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। मेयर प्रीति अग्रवाल के मामले को लेकर कल हमारे पार्षद एंव उत्तरी दिल्ली नगर निगम में नेता विपक्ष राकेश कुमार ने एलजी महोदय से मेयर साहिबा के कई पुराने मामलों की शिकायत भी की है।

ज्ञात हो कि एक तरफ़ एलजी महोदय के पास हमसे जुड़ीं 400 फ़ाइलें पड़ी हुई हैं लेकिन वो चाह कर भी उन फ़ाइलों से कुछ नहीं निकाल पा रहे हैं। दूसरी तरफ़ बीजेपी नेता और निगम की मेयर से जुड़ा सीधा-सपाट मामला उनके पास गया है लेकिन अभी तक कोई बड़ी हलचल देखने को नहीं मिल रही है।

मेयर प्रीति अग्रवाल टेंडर प्रक्रिया की बैठक में घुसकर टेंडर की फ़ाइल को अपने पास मंगवाने की ज़िद करने लग जाती हैं। कानून को ताक़ पर रखकर निगम की उस बैठक को अस्त व्यस्त किया जाता है, आरोप सीधे हैं लेकिन भारतीय जनता पार्टी जांच के नाम पर एक मज़ाक कर रही है। विजिलेंस का वो अफ़सर मेयर साहिबा को समन भी नहीं कर सकता जो खुद उन्हीं मेयर के मातहत काम करता है, तो आप खुद बताइए कि कैसे वो अफ़सर मेयर के ख़िलाफ़ जांच कर सकता है?

शनिवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम का बजट सत्र है, नियम-कानून और प्रक्रियाओं का अपमान करने वालीं और भ्रष्टाचार के आरोप झेल रहीं मेयर प्रीति अग्रवाल की अध्यक्षता में अगर सदन को संचालित किया जाएगा तो यह सदन की अवमानना होगी, आम आदमी पार्टी निगम के सत्र का बहिष्कार करेगी और सिविक सेंटर पर आम आदमी पार्टी के सभी पार्षद और एल्डरमैन प्रदर्शन करेंगे और मेयर के इस्तीफ़े की मांग करेंगे।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम में नेता विपक्ष राकेश कुमार ने कहा कि ‘मेयर प्रीति अग्रवाल जैसे ही निगम की मेयर बनीं वैसे ही उन्होंने लाभकारी सेवा समिति का अध्यक्ष पद हथिया लिया क्योंकि उनको पता था कि निगम के सारे काम उसी समिति के माध्यम से होते हैं इसलिए बड़े घोटाले करने के लिए उन्होंने इस समिति के अध्यक्ष का पद ग़ैर-कानूनी तरीक़े से हांसिल कर लिया, जबकि मेयर इस पद पर नहीं हो सकता लेकिन उन्होंने भ्रष्टाचार को अंजाम देने के लिए ऐसा किया।

मेयर के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार के दूसरे मामलों में सरस्वती स्पोर्ट्स परिसर का मामला, रिठाला मेट्रो स्टेशन के पास बन रही इमारत का मामला जिसकी सीबीआई जांच कर रही है, एलईडी लाइट का मामला, शिवा मार्केट का मामला, शहनाई वेंकट हॉल, रानी झांसी फ्लाइओवर जो 177 करोड़ रुपए का प्रोजेक्ट था जिसे भाजपा के लोगों ने 900 करोड़ रुपए का बना दिया है, इसके अलावा कई और भ्रष्टाचार के गंभीर मामले हैं जो मेयर प्रीति अग्रवाल के ख़िलाफ़ हैं लेकिन ना तो भाजपा ही उनके इन आरोपों का संज्ञान लेकर उन्हें पद से हटा रही है और ना ही भाजपा शासित निगम एंव केंद्र सरकार की जांच एजेंसियां इन मामलों में कोई कार्रवाई कर रही हैं।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

Leave a Comment