Scrollup

Aam Aadmi Party is glad that the BJP’s Central Govt has finally accepted that Ram Navmi Processions by rabid intolerant groups which brandished swords and used derogatory slogans against Muslims were an attempt to polarise the society and a recipe for orchestrating riots in Delhi.

This RamNavmi and Hanuman Jayanti saw an unprecedented style of processions across Delhi. There were around 250 such big and small processions across Delhi. They had sought written permissions from Delhi Police. The DCP of Police verified these organisations and their processions routes comprising of Masjids and the DCPs gave them permissions.

Delhi Police is directly under Mr Javadekar’s BJP central Govt and it would take him less than five minutes to find out who organised these Ram Navmi and Hanuman Jayanti processions in Delhi ?
Which organisations are behind all this ?

As Mr Javadekar is already convinced that these organisations were orchestrating riots in Delhi, he should immediately get them arrested and prosecuted under law of the land.

Mr Javadekar should to do his homework before pointing fingers at AAP. He should know that our party is strongly against any such activity & he is free to get the matter probed to find out the truth.

Union HRD Minister Mr Prakash Javadekar, along with absentee Delhi MP Manoj Tiwari has made some imaginary and wild allegations against our party.

This is a failed & desperate bid to mislead the public and divert attention from ghastly crimes committed in BJP rule in Unnao and Kathua.

आम आदमी पार्टी को इस बात की खुशी है कि भाजपा की केन्द्र सरकार ने आखिरकार स्वीकार कर लिया है कि राम नवमी पर हुईं गड़बड़ियों में कुछ समूहों ने तलवारें लहराईं थीं और मुसलमानों के खिलाफ अपमानजनक नारों का इस्तेमाल समाज को ध्रुवीकरण के आधार पर बांटने का प्रयास करने के लिए किया था और दिल्ली में दंगे कराने का प्रयास किया।

रामनवमी और हनुमान जयंती पर पूरी दिल्ली में जुलूस की एक अभूतपूर्व शैली देखी गई। दिल्ली में करीब 250 ऐसी छोटी-बड़ी जगह थीं जहां जुलूस निकाला गया और इसके लिए दिल्ली पुलिस से लिखित अनुमति मांगी गई थी। पुलिस के डीसीपी ने ही इन संगठनों की पुष्टि की थी और मस्जिदों के पास से उनके जुलूस मार्गों की उन्हें अनुमति दी थी।

दिल्ली पुलिस सीधे श्री जावड़ेकर जी की भाजपा शासित केंद्र सरकार के अधीन है और उन्हें दिल्ली में रामनवमी और हनुमान जयंती जुलूस का आयोजन कराने वाले संगठनों का पता लगाने के लिए पांच मिनट से भी कम समय लगेगा।
आखिर कौन सा संगठन इन सबके पीछे है?

जैसा कि श्री जावड़ेकर पहले से ही आश्वस्त हैं कि इन संगठनों ने दिल्ली में दंगे कराने का प्रयास किया था, उन्हें तत्काल गिरफ्तार कर लिया जाना चाहिए और कानून के तहत मुकदमा चलाया जाना चाहिए।

श्री जावड़ेकर ने आम आदमी पार्टी की तरफ़ उंगली उठाई लेकिन हम श्री जावड़ेकर जी से कहना चाहते हैं कि हमारी तरफ़ इशारा करने से पहले उन्हें अपना होमवर्क करना चाहिए था। उन्हें पता होना चाहिए कि हमारी पार्टी किसी भी ऐसी गतिविधि के सख़्त ख़िलाफ़ है और सत्य को जानने के लिए मामले की किसी भी तरह की स्वतंत्र जांच कराने के लिए तैयार है।

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर और हमेशा अनुपस्थित रहने वाले दिल्ली से भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने हमारी पार्टी के खिलाफ कुछ काल्पनिक और बेबुनियाद आरोप लगाए हैं।

जनता को गुमराह करने और उन्नाव एंव कठुआ में भाजपा शासन में किए गए भयावह अपराधों से ध्यान हटाने की यह एक असफल और निंदनीय कोशिश है।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

sudhir