Scrollup

पंजाब और हरियाणा में जलती हुई पराली में काफी वृद्धि हुई है, जिससे दिल्ली में प्रदूषण की स्थिति गंभीर हुई है: दिलीप पांडेय

प्रदूषण का मुकाबला करने के लिए हर राजनीतिक दल को राजनीतिक विचारधारा से ऊपर आना चाहिए: दिलीप पांडे

जब तक केंद्र, पंजाब और हरियाणा सरकार कड़ी कार्रवाई नहीं करते, अकेले दिल्ली प्रदूषण की समस्या से नहीं लड़ सकती: आतिशी

नई दिल्ली, 29 अक्टूबर 2019

आप नेताओं ने मंगलवार को केंद्र और पड़ोसी राज्यों पंजाब और हरियाणा में इस साल पराली जलाने के मामलों की बढ़ोतरी होने और राज्य सरकारों द्वारा कड़ी कार्रवाई नहीं करने पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्यों में बहुत अधिक मात्रा में पराली जलाई जा रही है, परिणामस्वरूप दिल्ली वायु प्रदूषण में भारी वृद्धि हुई है और दिल्ली एक गैस चैंबर बन गया है। “पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीपीसीबी) के आंकड़ों के अनुसार, राज्य में पिछले साल 27 अक्टूबर तक 9,600 पराली के जलने की घटनाएं दर्ज की गईं। इस साल यह आंकड़ा 12,027 हो गया है। पंजाब और हरियाणा में कम से कम 400 मिलियन की वृद्धि दर्ज की गई है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 27 अक्टूबर तक पराली जलने की घटनाएं राष्ट्रीय राजधानी में वायु प्रदूषण में एक प्रमुख कारण है। पराली जलाने के बढ़ते मामलों के कारण प्रदूषण में वृद्धि हुई है। लेकिन न तो केंद्र ने और न ही पड़ोसी राज्यों की राज्य सरकार ने इसके खिलाफ़ कोई भी सख्त कदम उठाए।

दिलीप पांडेय ने कहा कि प्रदूषण दिल्ली के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दा है और मैं स्पष्ट करना चाहता हूं कि उपलब्ध आंकड़े भारतीय जनता पार्टी के दावे से बहुत अलग है। “26 और 27 अक्टूबर को स्टबल बर्निंग में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की गई थी। 26 अक्टूबर को 2,805 मामले दर्ज किए गए थे, 27 अक्टूबर को संख्या 2,231 अंक को छू गई थी। हरियाणा में पिछले साल के 3,705 के मुकाबले 3,735 खेत में पराली जलाई गई। पिछले हफ्ते का उपग्रह द्वारा लिया गया डेटा दिखाता है कि 26 अक्टूबर को भारत में जलती हुई घटनाएं अपने अधिकतम स्तर पर पहुंच गई थीं।

उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसी SAFAR ने भी यह माना कि पराली जलने की वजह से दिल्ली में प्रदूषण के स्तर में वृद्धि हो रही है। पांडे ने कहा, “पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी, ​​SAFAR ने सोमवार को भविष्यवाणी की, कि दिल्ली के PM 2.5 की सघनता में जलने वाले धुएं का हिस्सा मंगलवार को 25 प्रतिशत तक उछल सकता है। सोमवार को यह 15 प्रतिशत था।”

उन्होंने कहा कि यह राजनीतिक विचारधारा और विभिन्न दलों की राजनीतिक लाइनों से ऊपर आने का समय है। वायु-प्रदूषण के मुद्दे से लड़ने के लिए हमारे हाथ मिलाने का समय आ गया है।

आप वरिष्ठ नेता आतिशी ने अपने बयान में कहा, “दिल्ली सरकार और उसकी एजेंसियों ने दिल्ली के प्रदूषण स्तर को नीचे लाने के लिए अथक प्रयास किया है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के आंकड़ों से पता चलता है कि दिल्ली में प्रदूषण में 25% की कमी पहले ही हो चुकी है।” पड़ोसी राज्यों में जलते हुए मल के कारण इस बार दिल्ली सरकार द्वारा किया गया हर काम जैसे कि हरे रंग के आवरण को बढ़ाना, सड़क का बुनियादी ढांचा और अन्य सभी महत्वपूर्ण उपाय गंभीर रूप से जलते हुए मल के कारण व्यर्थ हो रहे हैं। “

उन्होंने यह भी कहा कि पिछले 24 घंटों में स्टब बर्न के 1200 मामले सामने आए हैं और यह सिर्फ वही मामले हैं जो रिकॉर्ड किया गया है, इसका मतलब है कि कई और भी हो सकते हैं जो रिकॉर्ड नहीं किए गए हैं। “जब तक केंद्र, पंजाब हरियाणा एक साथ नही आते और मल जलाने के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नही करते, तब तक इस मुद्दे को हल नही किया जा सकता है और न ही दिल्ली अकेले इस प्रदूषण का मुकाबला कर सकती है। दिल्ली में अगले सप्ताह से दिल्ली सरकार द्वारा सभी आपातकालीन कार्रवाई की जा रही है।” आतिशी ने कहा कि विद्यालयों के माध्यम से नि: शुल्क मास्क वितरित करे जाएंगे। लेकिन जब तक केंद्र, पंजाब और हरियाणा सरकार चुप रहेंगे, स्थिति नहीं बदलेगी।

Stubble burning in the Punjab and Haryana has drastically increased which led to a severe spike in Delhi’s pollution: Dilip Pandey

Every political party should come together going above the political ideology to combat pollution: Dilip Pandey

Till the time Center, Punjab and Haryana govt do not take stern action, alone Delhi can’t fight this spike in pollution: Atishi

NEW DELHI

The AAP leaders on Tuesday slammed the Center and the neighbouring states for not taking stern action against the increasing numbers of stubble burning cases this year in the Punjab and Haryana which has resulted in a huge spike in Delhi air pollution and Delhi has become a gas chamber. ” According to data from the Punjab Pollution Control Board (PPCB), the state recorded 9,600 incidents of stubble burning till October 27 last year. This year, the figure has shot up to 12,027. Punjab and Haryana recorded an increase of at least 2,400 farm fires, a major contributor to the air pollution in the national capital, till October 27, according to government data. This increasing numbers of stubble burning cases caused the spike in pollution but neither the centre nor the state government of the neighbouring states has done anything,” said senior AAP leader Dilip Pandey.

He added that Pollution is a very important issue for Delhi and I want to clarify that the available data is saying something very different from what the Bharatiya Janata party is claiming. ” A significant rise in stubble burning was recorded on October 26 and 27. While 2,805 cases were reported on October 26, the number on October 27 touched the 2,231 marks. Haryana witnessed 3,735 farm fires as compared to 3,705 last year. Last week’s satellite data shows that stubble burning incidents in India reached its maximum levels on 26 October,” said Pandey.

He added that central agency SAFAR aslo predicted that due to the stubble burning the pollution level in Delhi rise. “The Ministry of Earth Sciences’ air quality monitor, SAFAR, on Monday predicted that the share of smoke from stubble burning in Delhi’s PM 2.5 concentration is likely to jump to 25 percent on Tuesday. It was 15 percent on Monday,” said Pandey.

He said that It is time to come above the political ideology and political lines of different parties. It is time to join our hands together to fight the issue of air-pollution.

Adding to his statements senior AAP leader Atishi said, ” The Delhi government and its agencies have worked relentlessly to bring down the pollution level of Delhi. The Central pollution control Board data shows that 25% decrease in pollution in Delhi has already taken place. But due to the stubble burning in the neighbouring states this time every work done by the Delhi government like increasing the green cover, the road infrastructure and all other important measures go in vain due to the severe stubble burning.”

She also said that in the last 24 hours there has been 1200 cases of stubble burning and that is something which is recorded which means there can be many more which are not recorded. “Till the time Center, Punjab Haryana come together and take stern action against stubble burning then only the issue could be solved and not Delhi single handedly can combat this pollution. All the emergency actions are being taken in Delhi, from next week Delhi government will distribute free musks through schools, odd even will also start but till the time the Center, Punjab and Haryana Government stay silent the situation will not change,” said Atishi.

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

firoz

Leave a Comment