Scrollup
  • दिल्ली सरकार भी हांगकांग और दूसरे देशों की तरह साप्ताहिक बाजारों और रेहड़ी-पटरी वालों को प्रोत्साहिक करेगी- अरविंद केजरीवाल
  • देश में माहौल बना दिया गया है कि साप्ताहिक बाजार और रेहड़ी-पटरी वाले समस्या हैं, जबकि पूरी दुनिया में उन्हें प्रोत्साहित किया जाता है, हम दिल्ली में भी ऐसा ही करेंगे- अरविंद केजरीवाल
  • साप्ताहिक बाजार को खोलने के लिए हमने काफी प्रयास किया, तब जाकर हमें सफलता मिली- अरविंद केजरीवाल
  • मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने साप्ताहिक बाजार के प्रतिनिधियों के साथ अपने आवास पर की बैठक, हमेशा साथ खड़े होने और भविष्य में आने वाली समस्याओं के समाधान का दिया आश्वासन
  • प्रतिनिधियों ने साप्ताहिक बाजार खोलने पर मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए कहा, ’उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया था, लेकिन मार्केट खुलने से उन्हें राहत मिल गई है’

नई दिल्ली, 25 अगस्त, 2020

दिल्ली के सभी साप्ताहिक बाजारों को बेहतर और व्यवस्थित करके उसे दिल्ली के आकर्षण का केंद्र बनाया जाएगा, ताकि जब कोई अमेरिका से पर्यटक आए और साप्ताहिक बाजारों में जाए, तो उसकी तारीफ करे। हम साप्ताहिक बाजारों को दिल्ली की खूबी और खासियत के तौर पर प्रस्तुत करेंगे। हांगकांग और दूसरे देशों की तरह ही दिल्ली सरकार भी साप्ताहिक बाजारों और रेहड़ी-पटरी वालों को प्रोत्साहिक करेगी। हमारे देश में ऐसा माहौल बना दिया गया है कि साप्ताहिक बाजार और रेहड़ी-पटरी वाले एक समस्या हैं और उनकी वजह से सड़कें खराब होती हैं और गंदगी फैलती है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने यह बातें आज साप्ताहिक बाजार के प्रतिनिधियों के साथ अपने निवास पर बैठक करने के दौरान कही। इस दौरान मुख्यमंत्री ने साप्ताहिक बाजार लगाने वालों के साथ हमेशा खड़े रहने और भविष्य में आने वाली उनकी समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया। वहीं, प्रतिनिधियों ने साप्ताहिक बाजार खोलने की अनुमति देने पर मुख्यमंत्री का आभार जताते हुए कहा कि उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया था, लेकिन मार्केट खुलने से उन्हें राहत मिल गई है।

कोरोना महामारी की वजह से पूरी दुनिया को दो-तरफा मार पड़ी है- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आज दिल्ली के सभी साप्ताहिक बाजार के प्रतिनिधियों के साथ आज अपने निवास पर बैठक की। सीएम अरविंद केजरीवाल ने बैठक में शामिल सभी प्रतिनिधियों का स्वागत करते हुए कहा कि पिछड़ा छह महीना जो बीता है, वह सिर्फ दिल्ली के लिए नहीं, बल्कि पूरी दुनिया के लिए बहुत ही कठिन दौर था। एक तरफ तो कोरोना की मार थी और अपने परिवार को इस भयानक बीमारी से बचाना था। वहीं, दूसरी तरफ लोगों के सारे काम- धंधे बंद हो गए, उनकी आमदनी का सारा जरिया बंद हो गया। इस तरह, दोनों तरफ से पूरी दुनिया में बहुत बुरी तरह से मार पड़ी है। यहां तक कि अमेरिका में भी सुन रहे हैं कि वहां पर बढ़ने की बजाय, 30 से 35 प्रतिशत अर्थव्यवस्था कम हो गई है। दिल्ली में भी एक एक समय ऐसी परिस्थिति आई थी कि बहुत सारे केस बढ़ने चालू हो गए थे, लेकिन दिल्ली के दो करोड़ लोगों ने बड़े-बड़े चमत्कार करके दिखाएं हैं। पिछले 5 साल में दिल्लीवासियों ने मिलकर के प्रदूषण को 25 प्रतिशत कम किया। पिछले साल डेंगू के ऊपर हमने नियंत्रण किया और इस बार हम सब ने मिलकर कोरोना को कंट्रोल किया है। आज कोरोना को लेकर दिल्ली जो कहानी है, उसकी पूरी दुनिया के अंदर चर्चा हो रही है। जैसे, सबसे पहले प्लाज्मा दिल्ली के अंदर इस्तेमाल होना चालू हुआ, पूरे देश में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में हम लोगों ने दिल्ली में प्लाज्मा का सबसे पहले ट्रायल किया और इसकी वजह से अभी तक प्लाज्मा देकर 900 से ज्यादा लोगों की जान बचाई जा चुकी है।
सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कल अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने ऐलान किया है कि कल से अमेरिका के अंदर भी प्लाज्मा पर काम शुरू होगा। सीएम ने कहा कि जो काम दिल्ली में ढाई महीना पहले शुरू हुआ था, वो काम अब अमेरिका के अंदर राष्ट्रपति ट्रंप ढाई महीने बाद शुरू करने जा रहे हैं। दिल्ली की कहानी एक तरफ से पूरी दुनिया के अंदर चर्चा बनी हुई है कि दिल्ली के अंदर लोगों ने मिलकर किस तरह से कोरोना की स्थिति को कंट्रोल किया।

दिल्ली सरकार का टैक्स कलेक्शन कम हो गया, फिर भी हमने पहले से चल रही कोई भी सब्सिडी बंद नहीं की- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अब समय आ गया है कि हम अपनी रोजी-रोटी की चिंता करें। लाॅकडाउन के दौरान दिल्ली सरकार से जो भी बन सका, हमने किया। हमने कई तबके के लोगों की मदद की। जिनके घर खाने को नहीं थे, उनको लिए लंगर लगाए, भंडारा किया, सुबह-शाम खाने की व्यवस्था की। उनके घर में दोगुना और फ्री में राशन भी पहुंचाया। लेकिन इस तरह कितने दिन हो सकता है। अंततः जब तक दुकानें नहीं खुलेंगी, तब तक रोजगार नहीं मिलेगा। यह हमेशा के लिए नहीं चल सकता है। मुख्यमंत्री ने बताया कि अभी सरकार को टैक्स बिल्कुल भी नहीं आ रहा है। दिल्ली सरकार की अपनी भी हालत काफी नाजुक है, लेकिन हमने अपना मैनेजमेंट इस तरह से किया कि जो भी सब्सिडी आप लोगों को मिल रही है, उसको हमने बंद नहीं किया। हम यह भी कर सकते थे कि सरकार के पास पैसा नहीं है तो बिजली की सब्सिडी बंद देते हैं, हम यह भी कर सकते थे कि हमारे पास पैसा नहीं है तो पानी की सब्सिडी बंद कर देते हैं। आज भी पानी और बिजली फ्री है और महिलाओं की बसों में यात्रा भी फ्री है। हमने सभी सब्सिडी को जरी रखी है और हमने कहा कि कोई भी सब्सिडी की योजना बंद नहीं होनी चाहिए। ऐसे मौके पर जनता को जरूरत है। ऐसे में बंद कर देंगे, तो लोगों का काम कैसे चलेगा।

साप्ताहिक बाजार को खोलने के लिए हमने काफी प्रयास किया, तब जाकर हमें सफलता मिली- अरविंद केजरीवाल

सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार ने जो भी चीजें खोलती जा रही थी, हम तुरंत दिल्ली के अंदर भी उसकी अनुमति दे देते थे। पूरे देश के अंदर एक जून से लाॅकडाउन खुला और हमने भी खोल दिया। लाॅकडाउन खुलने के बाद दिल्ली में स्थिति थोड़ी खराब हुई। दिल्ली में केस थोड़े बढ़ गए लेकिन हमने लाॅकडाउन दोबारा नहीं लगाया। हमने उनको कम करने की कोशिश की। अभी आपने देखा होगा पूरे देश के अंदर हर राज्य में कहीं 2 दिन का लाॅकडाउन लग रहा है, कहीं चार दिन का लग रहा है, कहीं 10 का लाॅकडाउन लग रहा है, कहीं रात को लग रहा है और कहीं दिन में लग रहा है। हमने दिल्ली में एक बार लाॅकडाउन खोला और उसके बाद दोबारा लाॅकडाउन नहीं लगने दिया। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार जिसकी भी अनुमति देती थी, हम भी उसे धीरे-धीरे खोलते जा रहे हैं। जब साप्ताहिक बाजार खोलने की बात आई, तो मैंने आपके लिए 20-25 दिन पहले एलजी साहब से बात की। संभवतः केंद्र सरकार ने एक अगस्त से साप्ताहिक बाजार खोलने की अनुमति दे दी थी। एक बार तो मैने एलजी साहब को मना लिया, लेकिन शायद फिर केंद्र सरकार से उन पर दबाव आ गया। मैने उनके पास साप्ताहिक बाजार खोलने के लिए फाइल भेजी, तो उन्होंने 10 दिन रूकने के लिए कहा। इसके बाद भी मैं उन पर दबाव बनाता रहा। किसी तरह उन्हें राजी किया और उन्होंने कहा कि 10 अगस्त के बाद खोल देंगे। हम लोगों ने 15 अगस्त के बाद बैठक करके साप्ताहिक खोलने की अनुमति दे दी।

मार्केट में अपने वालेंटियर लगाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराएं, ताकि ट्रायल के बाद भी साप्ताहिक बाजार को खोला जा सके- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रतिनिधियों से अनुरोध करते हुए कहा कि आप लोग कोशिश करके सप्ताहिक बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना। दिल्ली सरकार के अधिकारी तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराएंगे, लेकिन आपको स्वयं भी करना जरूरी है। यदि आप लोग इसका पालन नहीं करेंगे तो सरकारी कर्मचारी जोर जबरदस्ती करेंगे और फिर उस जोर जबरदस्ती में आपके ग्राहक टूटते हैं, फिर वे लोग नहीं आएंगे। इसलिए आप अपने हिसाब से जितना हो सके, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराएं। सीएम अरविंद केजरीवाल ने सुझाव देते हुए कहा कि सभी मार्केट के कोई प्रधान भी होते होंगे, उनसे बात करके आप अपने लोग लगा दीजिए, जो कि वहां पर सारी व्यवस्था को व्यवस्थित करके रखें, ताकि आज कुछ अखबारों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं होने कोलेकर स्टोरी की है, उस तरह की दोबारा स्टोरी नहीं आए। लोगों की राय भी बहुत जरूरी होती है और अगर जनता का दबाव आने लगा कि साप्ताहिक बाजार के अंदर बड़ी भीड़ होने लगी है, तो फिर माहौल उल्टा बन जाएगा। इसलिए हम सभी को इसे संभालना है। सभी साप्ताहिक बाजार की जो समितियां हैं, वह अपनी -अपनी जिम्मेदारी ले लें कि अपने लोगों को लगाकर व्यवस्था को दुरूस्त करें। यह बहुत जरूरी है। अभी यह ट्रायल के आधार पर चल रहा है। ताकि मैं हफ्ते भर बाद एलजी साहब के पास जाकर कह सकूं कि इसे पूरा खोल देते हैं। पूरी दिल्ली के अंदर साप्ताहिक बाजारों को हमेशा के लिए खोल देते हैं।

चांदनी चौक की तरह ही दिल्ली के सभी साप्ताहिक बाजारों को माँडल बनाएंगे- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि साप्ताहिक बाजार के लिए हमारे पास कई बड़े-बड़े प्लान है। यह कोरोना थोड़ा ठीक हो जाए, उसके बाद हम दोबारा आप लोगों के साथ बैठेंगे और विचार करेंगे। सीएम ने कहा कि अपने देश में एक ऐसा माहौल बना दिया गया है कि जैसे रेहड़ी- पटरी वाले, गरीब आदमी और सप्ताहिक बाजार वाले एक समस्या हैं। यह जो बेचते हैं, इससे सड़क खराब होती है, यह जो रेहड़ी लगाते हैं, इससे गंदगी फैलती है, इस तरह का एक माहौल बना रखा है। आप दुनिया के किसी भी विकसित देश में चले जाओ, दुनिया के हर देश के अंदर रेहड़ी पटरी वाले रेहड़ी पटरी लगाते हैं। यूरोपियन देशों में, लंदन और न्यूयार्क आदि में रेहड़ी-पटरी लगती हैं और साप्ताहिक बाजार लगते हैं। हांगकांग में सरकार साप्ताहिक बाजार लगाने वालों को प्रोत्साहित करती है, वहां पर रात-रात भर साप्ताहिक बाजार लगते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम आने वाले समय में साप्ताहिक बाजार को इतने व्यवस्थित तरीके से करेंगे कि लोग इस तरफ आकर्षित हों। चांदनी चौक का उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि चांदनी चौक कितना शानदार बन गया है। उसका पूरा नक्शा ही बदल गया है और अब पूरी दुनिया वहां घूमने आएगी। पहले यही चांदनी चैक था, जहां इतनी भीड़ और गंदगी हुआ करती थी। अब यह बहुत शानदार हो गया है। इसी तरह दिल्ली के सारे सप्ताहिक बाजारों और रेहड़ी पटरी वालों को इतना शानदार तरीके से व्यवस्थित करेंगे, ताकि हम कह सकें कि यदि अमेरिका से कोई पर्यटक आए, तो वह साप्ताहिक बाजार में जरूर जाए और इसे एक खूबी के तौर पर प्रस्तुत करे।

आप लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए मैं हमेशा हाजिर हूं- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि साप्ताहिक बाजार को उस तरह से प्रस्तुत किया जाएगा और व्यवस्थित करके उसको दिल्ली का एक आकर्षण का केंद्र बनाया जाएगा, ताकि आपको वहां जाएं तो वहां सामान जरूर खरीद कर आएं। साप्ताहिक बाजारों को दिल्ली की खूबी के तौर पर, दिल्ली की खासियत के तौर पर हम प्रस्तुत करेंगे। इस तरह, हांगकांग और दूसरे देशों के अंदर साप्ताहिक बाजार को प्रोत्साहित किया जाता है और इसको व्यवस्थित किया जाता है, उसी तरह से हम दिल्ली के अंदर भी हम करेंगे। अभी कोरोना के लेकर के हमारे ऊपर भी बहुत सारी बंदिशें हैं। मैं समझ सकता हूं कि इस समय आप और आपका परिवार कितनी मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। इसमें हम सबको मिलकर एक-दूसरे की मदद करनी है। सरकार आपके साथ खड़ी है। कभी भी आप मुझसे मिल सकते हैं। आप लोगों की समस्याओं का समाधान करने के लिए मैं हमेशा हाजिर हूं। मैं हमेशा कहता हूं कि दिल्ली की दो करोड़ लोग एक परिवार की तरह हैं। मैं आपका बेटा हूं, आपका भाई हूं, आप कभी अपनी समस्या लेकर मेरे पास आ सकते हैं। मैं हमेशा आपके साथ हूं।

25th August 2020

We will make Delhi’s weekly market so much better so that even if people come from the USA can witness its quality: CM Arvind Kejriwal

Delhi government will also encourage weekly markets and street vendors like Hong Kong and other countries: CM Arvind Kejriwal

The atmosphere has been created in the country that there are problems with the weekly markets and street vendors, while they are encouraged all over the world, we will do the same in Delhi: CM Arvind Kejriwal

We tried a lot to open the weekly markets, then we got success: CM Arvind Kejriwal

Chief Minister Arvind Kejriwal assures weekly meeting with representatives of the market at his residence, says always standing together & resolving future problems

The delegates thanked the Chief Minister for opening the weekly market and said, ‘They faced a livelihood crisis, but they have got relief from the opening of the market’

New Delhi:

Chief Minister Shri Arvind Kejriwal on Tuesday met with the weekly market associations of Delhi to discuss measures to revive this sector in Delhi. He said that the people of Delhi, including the market associations and the governments, will have to work together to strengthen Delhi’s economy. The meeting came after the decision to allow weekly markets on a trial basis which was taken a few days back. The representatives of the weekly market associations thanked Shri Arvind Kejriwal and the Delhi government for opening up the markets in Delhi. Shri Arvind Kejriwal also said that the Delhi government will develop a proper system for revamping of the weekly markets so that they can be converted into popular tourist destinations in Delhi.

Addressing the attendees, CM Shri Arvind Kejriwal said, “The last six months was a tough time, not only for Delhi but also for the entire world. On one hand, people had to save themselves and their families from the Corona pandemic, and on the other hand, all the jobs and businesses were shut down and there was no source of income. The economy of the USA has also declined by 30-35%. There was a point when the Corona cases in Delhi began to rise. The two crore people of Delhi have overcome many big challenges. The Delhiites have reduced the pollution in Delhi by 25% in the last five years. Last year, we controlled Dengue in the national capital, and we controlled the Corona pandemic this year. The Delhi Model of fighting Corona is discussed across the entire world. The plasma therapy was first carried out in Delhi, not only amongst cities and states in the country but also in the entire world. The first trial was done in Delhi and more than 900 lives have been saved until now through plasma therapy. Yesterday, US President Mr. Donald Trump has announced that plasma therapy will begin in the USA. The Delhi Model of fighting Corona has become a topic of discussion across the entire world.”

CM Shri Arvind Kejriwal said that during the lockdown, the Delhi government took major steps for people from all backgrounds, like serving food to families who could not afford it and gave them free ration. Now, there is a need to reopen the shops and businesses.

“We currently have a fragile situation at hand, and there is no source of revenue of tax for the Delhi government. We planned a management system in a way that the subsidies that the government is providing for the people should not stop. We could have stopped the subsidies on water and electricity, but we decided to keep the subsidies for the people, including the free bus rides for women because this is the need of the hour,” said CM Shri Arvind Kejriwal.

CM Shri Arvind Kejriwal said that the Delhi government started opening Delhi as and when the Central government allowed the opening of activities. “We lifted the lockdown in Delhi from June 1, after which the situation of Corona started declining. The cases started increasing but we did not re-impose the lockdown and we made efforts to decrease the cases. All other states are imposing arbitrary lockdowns for 1-2 days, but Delhi did not do that,” he said.

CM Shri Arvind Kejriwal said, “I spoke to LG sir 20-25 days back for the opening up of weekly markets when the central government had allowed the opening of markets. But, they took a decision to hold it off for a few days. I was consistent in my efforts to convince them for opening up the markets, and they gave the allowance after August 15.”

CM Shri Arvind Kejriwal requested the associations to maintain social distancing in the markets. He said, “If you fail to do that, the government officials might pressure you or take action against you, and this will affect your customer strength. Please appoint your volunteers with the heads of the weekly markets, for maintaining a system for social distancing in the markets.”

He said that public opinion is very important for the businesses, and if the public starts complaining about no social distancing in the markets, it will pose a problem in the future.

“This is also important so that the opening of markets on a trial basis is soon converted into a permanent plan by the LG, and I will be able to advocate for the permanent opening of all weekly markets in Delhi. We also have many plans for operating weekly markets in the city,” added the CM.

CM Shri Arvind Kejriwal said, “The environment is such that the street-hawkers are often considered as a problem if they operate on the roadside. Street-hawkers operate in many developed nations such as London and Europe. The government of Hong Kong encourages the establishment of weekly markets. In the coming days, we will create a proper management system so that more and more people are attracted to the weekly markets. The area of Chandani Chowk has been revamped and more and more tourists will start visiting the area. We will develop the system for setting up weekly markets so that tourists from countries like the USA visit the weekly markets. The weekly markets will be presented as one of the most attractive tourist places in Delhi. We will also develop a proper system just like it is done in countries such as Hong Kong. We have some restrictions on us because of Corona, but we will do this as soon as the situation settles down a little. I also realize that a lot of you are going through a difficult phase, but we have to support each other in this phase. The government is standing beside you. I am there to resolve all your issues. The two crore people of Delhi are like a family, and I am a member of your family.”

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

pulkit

1 Comment

    • John Ferns

      In Covid-19 Disease Era, GOA-BJP is busy in making illegal Mining resume, illegal Mopa airport, illegal filling Agriculture lands, illegal Cutting trees, increasing Electricity bills, increasing Petrol prices, etc. GOA-AAP should keep on exposing these illegalities of BJP every day. And must not forgot to mention Congress name along with BJP because 13 directly and 2 indirectly are with BJP. CONGRESS JANATA PARTY (CONGRESS+BJP) (15 Congress MLAs and 13 BJP MLAs in today’s BJP Government in Goa).

      reply

Leave a Comment




femdom-scat.com
femdom-mania.net