Scrollup

जलती हुई पराली के प्रदूषण से निपटने के लिए केंद्र सरकार द्वारा की जा रही कार्यवाही पर आम आदमी पार्टी ने केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से पूछे पांच सवाल।

केंद्र सरकार ने हरियाणा और पंजाब में जल्दी पराली को रोकने के लिए अब तक क्या कदम उठाए: आतिशी

पराली से होने वाले प्रदूषण पर धृतराष्ट्र बनकर बैठे हैं केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर: राघव चड्ढा

नई दिल्ली, 3 नवम्बर 2019

आम आदमी पार्टी ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पंजाब और हरियाणा के राज्यों में जलती हुई पराली की बढ़ती संख्या पर अंकुश लगाने के लिए केंद्र के पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से पांच सवाल पूछे, जिससे दिल्ली के वायु प्रदूषण में वृद्धि हुई है। आम आदमी पार्टी की राष्ट्रीय प्रवक्ता आतिशी ने कहा कि “आज आम आदमी पार्टी की तरफ से मैं केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर से पांच सवाल पूछना चाहती हूँ। भारत के पर्यावरण मंत्री होने के नाते यह उनकी ज़िम्मेदारी है कि हम लोगों को इस सवाल का जवाब दें कि उनकी सरकार प्रदूषित हवा का मुकाबला करने के लिए कैसे काम कर रही है।

उन्होंने यह भी कहा कि हम सभी इस तथ्य से अवगत हैं कि प्रदूषण एक आपातकालीन स्तर पर पहुंच गया है। दिल्ली, एनसीआर, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश और उड़ीसा इन सभी राज्यों में घना स्मॉग देखा जा रहा है।

आतिशी ने कहा “मेरा पहला सवाल यह है कि केंद्र सरकार ने पंजाब और हरियाणा में जल रही पराली को रोकने के लिए क्या किया है? केंद्र सरकार द्वारा दायर किए गए हलफनामे के अनुसार, यह पता चलता है कि उन्होंने केवल 63,000 मशीने किसानों को एक विकल्प के रूप में वितरित किन, जबकि किसानों की कुल संख्या लगभग 22 लाख है।

“उनसे मेरा दूसरा सवाल यह है कि पिछले 5 महीनों में केंद्र सरकार ने वायु प्रदूषण के मुद्दे पर एनसीआर के सभी पर्यावरण मंत्री के साथ कोई बहुस्तरीय बैठक क्यों नहीं बुलाई?

“मेरा तीसरा सवाल नासा के उपग्रह चित्रों के अधार पर है, सभी उत्तर भारतीय राज्य घने स्मॉग के आसपास घूम रहे हैं और वायु-गुणवत्ता आपातकालीन स्तर पर पहुंच गई है। पिछले पांच दिनों में केंद्र सरकार ने इस मुद्दे पर उत्तर भारतीय राज्यों के सभी पर्यावरण मंत्रियों की कोई आपात बैठक क्यों नहीं बुलाई?”

“मेरा चौथा सवाल यह है कि केंद्र सरकार उत्तर भारतीय राज्यों के सभी पर्यावरण मंत्रियों के साथ एक आपातकालीन बैठक कब बुलाएगी और मैं आज इसका जवाब जानना चाहता हूं?

“मेरा पांचवा प्रश्न यह है कि इस वर्ष हम सबने भारी प्रदूषण देखा है, इसलिए, मैं अगले वर्ष के लिए जानना चाहता हूं कि केंद्र सरकार की पंजाब और हरियाणा में जल रहे मल का मुकाबला करने के लिए समयबद्ध योजना क्या है? क्योंकि मल के जलने के कारण केवल दिल्ली ही नहीं, बल्कि भारत का आधा हिस्सा भीषण वायु प्रदूषण का सामना कर रहा है।

प्रेस वार्ता में मौजूद आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता राघव चड्ढा ने इन प्रश्नों के साथ अपने बयानों को जोड़ते हुए कहा, “दिल्ली गंभीर वायु प्रदूषण देख रही है और इसके पीछे का कारण पड़ोस के राज्यों में जलती हुई पराली है। इस बात का दावा केवल आम आदमी पार्टी नही बल्कि कई अन्य संस्थान भी कर रहे हैं। सबसे पहले SAFAR ने कहा है कि इस साल दिल्ली के प्रदूषण का 46% मल जलने के कारण है, वहीं एक स्वायत्त एजेंसी IIPM ने कहा है कि दिल्ली का लगभग 70% प्रदूषण पराली जलने के कारण होता है। यही नही खुद केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को दिए अपने हलफ़नामे में, इस वायु प्रदूषण के पीछे सबसे प्रमुख कारणों में से एक के रूप में जलते हुए स्टब को स्वीकार किया गया है और अंतिम रूप से कल पंजाब के मुख्यमंत्री श्री अमरिंदर सिंह ने खुद स्वीकार किया है कि दिल्ली के प्रदूषण में जलती पराली एक बड़ा कारण है।

उन्होंने यह भी कहा कि प्रकाश जावड़ेकर जो कि भारत के पर्यावरण मंत्री हैं, वे पराली जलाने के मुद्दे पर पूरी तरह से चुप हो गए हैं और ऐसा लगता है कि वह उस वास्तविकता को नहीं देख पा रहे हैं जो उनके सामने है। चड्ढा ने कहा, “यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि इस गंभीर वायु आपातकाल में भारत के प्रधानमंत्री थाईलैंड में, भारत के स्वास्थ्य मंत्री चेन्नई में हैं। साथ ही साथ भारत के पर्यावरण मंत्री ने आज सुबह अपने ट्वीट के माध्यम से लोगों को संगीत सुनने का सुझाव दिया है।”

उन्होंने कहा कि यदि आप सितंबर के अंत में ली गई तस्वीर को देखते हैं तो आप साफ आकाश देख सकते हैं। लेकिन अगर आप नवंबर में भी यही तस्वीर लेते हैं तो आप स्पष्ट आकाश को नहीं देख पाएंगे। जो यह साबित करता है कि किस तरह से पराली जलने से दिल्ली प्रभावित हुई है।

“केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा प्रकाशित आंकड़ों से स्पष्ट है कि वाराणसी भारत का सबसे प्रदूषित शहर है और वाराणसी प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी का निर्वाचन क्षेत्र है। सीपीसीबी के अनुसार, भारत के शीर्ष 10 सबसे प्रदूषित शहरों में से छह उत्तर प्रदेश और चार हरियाणा से हैं, लेकिन दिल्ली उस शीर्ष 10 की सूची में नहीं है।

राघव चड्ढा ने कहा कि हमारा मानना हैं कि वायु प्रदूषण केवल दिल्ली विशेष का मुद्दा नहीं है, बल्कि पूरे उत्तर भारत का मुद्दा है, इस मुद्दे का समाधान भी इसी व्यापक स्तर पर होना चाहिए। “मैं केंद्र सरकार से दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के पर्यावरण मंत्री और मुख्यमंत्रियों सहित एक आपातकालीन बैठक बुलाने का अनुरोध करना चाहता हूं। दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार केंद्र द्वारा इस तरह की किसी भी पहल का समर्थन करेगी।”

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

firoz

Leave a Comment