Scrollup

Press Release/19th September 2017

मंहगाई और तेल के बढ़े दामों के ख़िलाफ़ व्यापक आंदोलन छेड़ेगी आम आदमी पार्टी, सभी विधायकों और संगठन की आपात बैठक बुधवार को

देश में भाजपा ने सत्ता में आने से पहले देश की जनता से वादा किया था कि वो मंहगाई कम करके दिखाएंगे लेकिन हक़ीकत ये है कि पूरे देश में पैट्रोल-डीज़ल के दाम आसमान छू रहे हैं। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम कम हैं लेकिन भारत में पेट्रोल को तकरीबन 56 प्रतिशत मुनाफ़े के साथ बेचा जा रहा है। दिल्ली में पैट्रोल के दाम 70 रुपए करीब हैं जबकि मुम्बई में 80 रुपए हैं। जबकि अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे के दाम इस वक्त 50 डॉलर प्रति बैरल से भी नीचे हैं। जब क्रूड ऑयल के दाम आधे से भी कम हो गए हैं तो भारत में पेट्रोल डीज़ल मंहगा क्यों बेचा जा रहा है?

पार्टी कार्यालाय में आयोजित हुई प्रैस कॉंफ्रेंस को सम्बोधित करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता और दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने कहा कि ‘सत्ता में आने से पहले भाजपा कहती थी कि मंहगाई कम करेंगे लेकिन आज पेट्रोल-डीज़ल के जरिए मंहगाई आसमान छू रही है। साल 2014 में जब बीजेपी केंद्र की सत्ता में आई थी तब अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में कच्चे तेल के दाम 105 डॉलर प्रति बैरल के करीब थे और तब भी पैट्रोल के रिटेल प्राइस 70 रुपए के आसपास थे और अब जब साल 2017 में कच्चे के दाम 50 डॉलर प्रति बैरल के करीब आए हैं तब भी पैट्रोल के दाम दिल्ली में 70 रुपए पर हैं और मुम्बई में ये 80 रुपए के करीब हैं। पेट्रोल के इस खेल 56 प्रतिशत का जो मुनाफ़ा है वो किसकी जेब में जा रहा है? क्या सत्ता में बैठे लोगों को चंदे के रुप में तो ये मुनाफ़ा नहीं मिल रहा है? पेट्रोल-डीज़ल के जरिए देश के आम आदमी की जेब पर डाका डाला जा रहा है‘

तेल के बढ़ते दामों के संदर्भ में राज्य सरकारों से टैक्स की कटौती करने की बात करना और तेल पर जीएसटी लगाने के बाद सस्ता होने की बात करना केंद्र सरकार और भाजपा की तरफ़ से सिर्फ़ और सिर्फ़ जनता का ध्यान का भटकाने का प्रयास मात्र है जबकि इसमें पूरी ज़िम्मेदारी केंद्र सरकार की ही है।

देश में बेतहाशा बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दामों और बढ़ रही मंहगाई को लेकर आम आदमी पार्टी बुधवार को एक आपात बैठक कर रही है जिसमें पार्टी के सभी विधायक और संगठन के पदाधिकारी हिस्सा लेंगे। इस बैठक में ये तय किया जाएगा कि मंहगाई के मुद्दे पर आंदोलन की रुपरेखा क्या होगी। आंदोलन के जरिए केंद्र की भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी को याद दिलाया जाएगा कि वो मंहगाई को कम करने के लिए सत्ता में आए थे ना कि देश के आम आदमी की जेब पर डाका डालने के लिए। पार्टी ट्विटर पर भी एक कैम्पेन चलाने जा रही है जिसमें हम देश के हर आम आदमी को इस बात के लिए प्रेरित करेंगे कि वो देश में बढ़ती मंहगाई और पेट्रोल के बढ़ते दामों पर कारगर कदम उठाने की गुज़ारिश प्रधानमंत्री जी से एक पत्र के माध्यम से करें, वो पत्र ट्विटर पर प्रधानमंत्री जी को टैग करते हुए पोस्ट करें और प्रधानमंत्री जी और उनकी सरकार को याद दिलाएं कि जनता ने सत्ता भाजपा को क्यों सौंपी थी।

पार्टी के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय सिंह ने पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि ‘ऐसा नहीं है कि भाजपा सरकार ने सिर्फ़ पेट्रोल-डीज़ल के ही दाम बढ़ाए हैं, आज की तारीख में प्याज़ 80 रुपए, टमाटर 120 रुपए और दाल 240 रुपए किलो बिक रही है, देश के आम आदमी की ज़रुरत की और खाने-पीने की चीज़ों के दाम भी आसमान पर हैं और यह सब जमाखोरी, भ्रष्टाचार और कालाबाज़ारी की वजह से हो रहा है। ये सब चीज़ें प्रधानमंत्री जी के घनिष्ठ मित्र उद्योगपित गौतम अडानी के गोदामों में जमा करके रखी जाती है और फिर मंहगे दामों पर जनता के बीच में उतारी जाती हैं।

पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि वर्तमान भाजपा सरकार को लेकर अब देश में एक नया नारा चलना चाहिए, बहुत हुई मंहगाई की मार, अबकी बार पेट्रोल 80 पार पेट्रोल-डीज़ल हो या फिर बाजार में बिकने वाली ज़रुरते की चीज़ें, सब मंहगा हो गया है और ये सिर्फ़ भाजपा की निक्कमी सरकार की वजह से ही है।

 

“‘मेरा बूथ, सबसे मज़बूत’ मुहिम के अगले चरण के तहत आगामी 20 सितम्बर से 30 सितम्बर के बीच आम आदमी पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता दिल्ली के घर-घर में जाकर लोगों से बात करेंगे और संगठन को और मज़बूत बनाने का कार्य करेंगे”

गोपाल राय, वरिष्ठ नेता एंव दिल्ली संयोजक, AAP

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

Leave a Comment