Scrollup

14 नवम्बर को बाल दिवस के मौके पर दिल्ली की आम आदमी पार्टी की सरकार दिल्ली में बच्चों के लिए कार्यक्रम आयोजित करने जा रही है जिसका ना होगा ‘Delhi For Children’। यह कार्यक्रम दिल्ली की 100 से ज्यादा जगहों पर आयोजित किया जाएगा जिसके तहत बच्चों के लिए बाल मेला, खेल और अलग-अलग एक्टिविटी आयोजित की जाएंगी। इस बात की जानकारी सोमवार को दिल्ली सचिवालय में आयोजित हुई प्रैस कॉंफ्रेंस में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एंव शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने दी।

पत्रकारों से बात करते हुए शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि ‘सरकार सभी अभिभावकों से अपील करती है कि 14 नवंबर को अपने बच्चों के साथ दिल्ली सरकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए ज़रुर आएं। 14 नवम्बर को बाल दिवस के उपलक्ष्य में दिल्ली सरकार के सभी विभागों में अवकाश रहेगा जिसकी वजह से लोग अपने बच्चों के साथ नज़दीक के कार्यक्रम में शिरक़त कर सकते हैं।

यह कार्यक्रम विशेषकर उस संदेश को घर-घर तक पहुंचाने के लिए आयोजित किया जा रहा है जिसके तहत अभिभावकों को यह बताया जाएगा कि कैसे अपने बच्चों की देखभाल करें, कैसे उन्हें एक अच्छा इंसान बनने में उनकी सहायता करें, कैसे उनकी पढ़ाई के समय और खेलकूद के समय में संतुलन बनाते हुए उन्हें उनका बचपन जीने दें। कार्यक्रम में इन सब बातों को शामिल करते हुए बच्चों की अच्छी देखभाल को लेकर समाज में संदेश दिया जाएगा।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

2 Comments

    • John Ferns

      Parents giving worldly made temptation Materials to their Children thinking that their responsibility is finished if absolutely wrong! Instead Parents should give Godly made Love to their Children. Children divert their love to the materials because of absence of Parents Love. It is the responsibility of the Parents to give Time to their Children. Children are growing up. They will remember the Parents Love and not the Materials which were given in their Childhood! Materials will vanish but not the Love given by their Parents to them.

      reply
    • John Ferns

      DEVELOPED COUNTRIES HAS REJECTED EVM BECAUSE THEY ARE EDUCATED AND USING BALLOT PAPER!

      reply

Leave a Comment