Scrollup

आम आदमी पार्टी ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में हो रही लगातार बढ़ोत्तरी के खिलाफ मंगलवार को लखनऊ, फै़ज़ाबाद, अम्बेडकर नगर, आगरा, मथुरा, गाजियाबाद, बरेली, शाहजहांपुर, बनारस, इलाहाबाद, झाँसी सहित प्रदेश के सभी ज़िला मुख्यालयों पर ज़ोरदार विरोध प्रदर्शन कर पेट्रोलियम मंत्री के नाम ज्ञापन दिया।

पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं उत्तरप्रदेश प्रभारी संजय सिंह ने कहा कि ‘बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से ही तेल कंपनियां आम आदमी से अप्रत्याशित लाभ कमाने में लगी हुई हैं। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें आज 108 डॉलर प्रति बैरल से कम होकर 50 डॉलर प्रति बैरल रह गयी हैं, लेकिन पेट्रोल और डीज़ल की कीमतें लगातार बढ़ती जा रही हैं | वर्तमान में कम क़ीमत पर मिलने वाले कच्चे तेल से आम जनता को इसका कोई लाभ नहीं हो पा रहा है। पेट्रोल, डीजल की क़ीमतें बढ़ने से आम आदमी की सब्जी, दाल-राशन सब कुछ मंहगा हो गया है, लेकिन सरकार को इसकी कोई फ़िक्र नहीं है।

मोदी जी पेट्रोल और डीज़ल के दामों में बढ़ोत्तरी कर अपने चहेते उद्योगपतियों को भारी मुनाफा करा रहे हैं – संजय सिंह

उन्होंने कहा मोदी सरकार पेट्रोल और डीजल के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी कर अपने चहेते तेल कंपनी से संबंधित उद्योगपतियों को भारी मुनाफा कराकर लोकसभा चुनाव के दौरान उनके द्वारा किए गए एहसान को उतारने का काम कर रही है।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने बढ़ती कीमतों से खुद को दूर करने की कोशिश की, जिसमें कहा गया है कि तेल कम्पनियों पर से सरकारी नियंत्रण हटा दिए गए हैं, अब पेट्रोल और डीज़ल की कीमतों को नियंत्रित करना तेल कंपनियों की जिम्मेदारी है क्योंकि, गतिशील मूल्य निर्धारण की अवधारणा शुरू की गई है। यह सिर्फ़ एक तर्क मात्र है जबकि हकीक़त यह है कि मोदी सरकार के इशारे पर ही तेल की क़ीमतें बढ़ाई जा रही हैं।

उन्होंने मांग की है कि पेट्रोलियम मंत्रालय तेल कंपनियों को तत्काल निर्देश जारी करके पेट्रोल और डीज़ल को अंतरराष्ट्रीय बाजार मूल्यों के साथ जोड़ें और इन कंपनियों द्वारा कमाए जा रहे भारी मुनाफे को जनता के साथ साझा करें।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

2 Comments

    • Keshav Agarwal

      Instead of merging oil companies, there should large scale divestment of oil marketing companies in favour of public at large and taking them out of Govt. Control. This will bring competition and fair prices for petrol.

      reply
    • ASHISH JACOB

      सस्ता हो डीजल-पैट्रोल पूरे देश में हो एक समान टैक्स! (GST)

      reply

Leave a Comment