Scrollup

पिछले तीन साल में मोदी सरकार ने पेट्रोलियम पदार्थों पर उत्पाद शुल्क में 150% की बढ़ोतरी की, उत्पाद शुल्क को कम करे केंद्र सरकार

देश में पेट्रोल-डीज़ल के दाम आसमान छू रहे हैं जिसका विरोध कर आम आदमी पार्टी जनता के हक़ में खड़ी है और एक मज़बूत विपक्ष की भूमिका निभा रही है। केंद्र सरकार ने पेट्रोलियम पदार्थों पर पिछले तीन साल में 150% की दर से उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी की है और यही कारण है कि पेट्रोलियम पदार्थों के दाम आसमान पर हैं। तेल की बढ़ती क़ीमतों के ख़िलाफ़ देश भर में आम आदमी पार्टी 22 सितम्बर से 30 सितम्बर तक विरोध सप्ताह के तौर पर मनाएगी जिसके तहत 22 सितम्बर को राजधानी दिल्ली समेत पूरे देश में व्यापक विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। दिल्ली की सभी विधानसभाओं में पार्टी के कार्यकर्ता बढ़ते तेल के दामों का विरोध करेंगे। 26 सितम्बर को आम आदमी पार्टी के सभी पार्षद पेट्रोलियम मंत्रालय का घेराव करेंगे और 30 सितम्बर को दिल्ली के सभी 272 वॉर्ड में महंगाई का पुतला दहन किया जाएगा।

पार्टी के राष्ट्रीय कार्यालय में प्रेस कॉंफ्रेंस को सम्बोधित करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता और दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने कहा कि ‘कल जब आम आदमी पार्टी के सभी विधायक एक ज्ञापन पेट्रोलियम मंत्रालय में देने के लिए गए थे तो ना तो वहां मंत्रालय के किसी भी प्रतिनिधि ने ज्ञापन को लिया और उपर से दिल्ली की जनता के चुने हुए प्रतिनिधियों को गिरफ्तार कर लिया गया था। बाद में वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी ने बयान जारी कर कहा कि पेट्रोल को सस्ता करने के लिए राज्य सरकारें अपना वैट घटाएं। आम आदमी पार्टी वित्त मंत्री अरुण जेटली जी की इस बात से सहमत नहीं है, हम वित्त मंत्री अरुण जेटली जी से 5 सवाल पूछना चाहते हैं-

  1. क्या यह सच नहीं है कि मोदी सरकार ने जुलाई 2014 से अब तक पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 150 प्रतिशत बढ़ा दिया है, जो पहले जीडीपी का 0.4% था वो अब 1.4% हो गया है?
  2. क्या यह सच नहीं है कि मोदी सरकार ने अब तक 9 बार पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क बढ़ाया है?
  3. क्या यह सच नहीं है कि पेट्रोल और डीज़ल से सरकार की कमाई मोदी सरकार के कार्यकाल में तीन गुना से ज्यादा बढ़ गई है?
  4. अगर राज्य सरकारों को अपने वैट में कटौती कर पेट्रोल सस्ता करना पड़े तो फिर तेल कम्पनियां केंद्र सरकार के कब्ज़े में क्यों है? राज्यों के पास क्यों नहीं?
  5. भाजपा ने देश के लोगों को धोखा क्यों दिया और 2014 के चुनाव में यह क्यों नहीं बताया कि पेट्रोल और डीज़ल के दाम कम नहीं हो सकते?

हम देश की मोदी सरकार से बताना चाहते हैं कि अगर पेट्रोल के दाम सस्ते करने हैं तो हमारी इन तीन मांगों को तुरंत लागू करें

  • पेट्रोलियम उत्पादों के रीटेल प्राइस को अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में मिलने वाले कच्चे तेल के दाम के अनुसार तय किया जाए और उसके साथ लिंक कर दिया जाए और साथ ही तेल कम्पनियों पर केंद्र सरकार नियंत्रण करे
  • पेट्रोलियम पदार्थों पर उत्पाद शुल्क पिछले तीन साल में 150 प्रतिशत बढ़ाया है, उसे तुरंत प्रभाव से कम किया जाए
  • वित्त मंत्री जो राज्य सरकारों से वैट कम कराने की बात कर रहे हैं, पहले वो बीजेपी शासित राज्य जैसे महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश जैसे राज्यों की सरकारों से कहकर वैट को कम कराएं बाद में दूसरों को सलाह दें।

तेल की बढ़ती क़ीमतों के ख़िलाफ़ देश भर में आम आदमी पार्टी 22 सितम्बर से 30 सितम्बर तक विरोध सप्ताह के तौर पर मनाएगी जिसके तहत निम्नलिखित तारीख़ों पर पार्टी के विरोध प्रदर्शन आयोजित होंगे

  1. 22 सितम्बर को राजधानी दिल्ली समेत पूरे देश में व्यापक विरोध प्रदर्शन किया जाएगा। दिल्ली की सभी विधानसभाओं में पार्टी के कार्यकर्ता बढ़ते तेल के दामों का विरोध करेंगे।
  2. 26 सितम्बर को आम आदमी पार्टी के सभी पार्षद पेट्रोलियम मंत्रालय का घेराव करेंगे।
  3. आगामी 30 सितम्बर को दशहरे के दिन दिल्ली के सभी 272 वॉर्ड में महंगाई का पुतला दहन किया जाएगा।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

2 Comments

    • Ms Maan

      Strike at the root cause of the problem
      • First, pressurize the election commission to do away with EVM/EVM with paper-trail and ensure free and fare elections. People are voting for “A” but winning is “B”.
      • Petrol and diesel prices are having spiraling effects. Even a single rupee hike will hit the poorest man at the socio-economic ladder.
      • Devise some way to collect the taxes from the people who are having their business in Sadar Bazar like markets. Most of the transactions are happening without any bill/receipts.
      • Most of the people are not aware that they are paying taxes. Make them aware about the facts that all of them are paying taxes (indirect tax) and the basic necessities (free education, health, roads etc.) are their rights in exchange. This will encourage them to assert themselves.
      . It may help to protest by mobilizing people to come on the road but most effective way could be the social media.

      reply
    • John Ferns

      BJP IS NOT GOOD FOR INDIA & INDIANS!!!!!!!!!
      DEMONETISATION has destroyed the livelihood of Lower Class & Middle Class Indians!
      GST has destroyed the livelihood of Middle Class Indian Businessmen!
      EVM Manipulations has destroyed the Voting Rights of Higher, Lower & Middle Class Indians!

      reply

Leave a Comment