Scrollup

दिल्ली सरकार के स्कूलों में अच्छे होते शिक्षा के स्तर का एक और उदाहरण सामने आया है जिसके तहत एसोचैम के एक सर्वे में ये बात निकलकर आई है कि दिल्ली के ज्यादातर अभिभावक दिल्ली सरकार के स्कूलों में हो रही पढ़ाई से ना केवल खुश हैं बल्कि वो अपने बच्चों को दिल्ली सरकार के स्कूलों में भेज कर बेहद संतुष्ट भी हैं।

लगभग 60 प्रतिशत माता-पिता दिल्ली सरकार के स्कूलों में अपने बच्चों को भेजने के अपने फैसले से बेहद संतुष्ट हैं, राष्ट्रीय राजधानी में एसोचैम सोशल डेवलपमेंट फाउंडेशन (एएसडीएफ़) ने एक स्वतंत्र सर्वेक्षण किया जिसकी रिपोर्ट में ये बात कही गई है।

सर्वेक्षण में यह भी उल्लेख किया गया है कि अधिकांश माता-पिता ने निजी स्कूलों की अपेक्षा दिल्ली सरकार के स्कूलों में बेहतर शिक्षा और बच्चों के समग्र विकास में सुधार पर दिल्ली के सरकारी स्कूलों के फ़ोकस की जमकर सराहना की है, ज्यादातर अभिभावक निजी स्कूलों द्वारा फ़ीस बढ़ाने के बारे में भी चिंतित दिखे।

एसोचैम की कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिटी (सीएसआर) ने लगभग 5,000 माता-पिता के साथ बातचीत की, उनके बच्चों को दिल्ली सरकार के स्कूलों में मिल रही शिक्षा के सम्बंध में उनकी राय जानी और उनकी संतुष्टि का पता लगाया। इसके अलावा, यह भी सर्वे किया गया है कि क्या वे दिल्ली की नई सरकार के वक्त में शिक्षा के स्तर में किसी सुधार को महसूस कर रहे हैं? और उससे कितने संतुष्ट हैं? जिनमें 60 प्रतिशत से ज्यादा माता-पिता ने कहा कि वे दिल्ली की मौजूदा केजरीवाल सरकार के वक्त में सरकारी स्कूलों के प्रदर्शन से बेहद खुश हैं और संतुष्ट हैं।

कुल मिलाकर, लगभग 30 प्रतिशत ने कहा कि दिल्ली सरकार के स्कूलों में सुरक्षा तंत्र और बुनियादी ढांचे को भविष्य में और बेहतर बनाया जा सकता है।

फिर भी सर्वे के ज्यादातर उत्तरदाताओं (70 प्रतिशत) के बहुमत ने कहा कि उन्होंने दिल्ली की मौजूदा केजरीवाल सरकार के वक्त में दिल्ली सरकार के स्कूलों में काफी सुधार देखा और महसूस किया है जिसके लिए उन्होंने वर्तमान की केजरीवाल सरकार के बेहद सकारात्मक दृष्टिकोण, साफ़ नीयत और मेहनत को श्रेय दिया है।

एसोचैम इंडिया की वेबसाइट पर इस सर्वे रिपोर्ट से जुड़े तथ्य यहां नीचे मौजूद लिंक पर विस्तार से पढ़ा जा सकता है- http://www.assocham.org/newsdetail.php?id=6514

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

Ghansham

6 Comments

    • John Ferns

      ===========================================================================
      EDUCATION REFORM – 1
      From 1 To 5 Std/Class (PRIMARY)
      (1) There must be only 5 Subjects (English, Hindi & State Language, Maths & Social/Moral Studies).
      (2) There must be only 2 Exams (First Term & Final Term) and there must be no any exam or test in between but only activities (Sports, Singing, Dancing, Music, Drawing, Craft, etc).

      From 6 To 10 Std/Class (SECONDARY)
      (1) There must be only 10 Subjects (Literature (English/Optional Language), Maths, Social/Moral Studies, Science, Environmental Studies (Preserving Nature/Weather Change), History, Geography, Physics, Biology & Chemistry).
      (2) There must be 3 Exams (First Term, Second Term & Final Term) and there must be no any test in between but only activities (Sports, Singing, Dancing, Music, Drawing, Craft, etc).

      EDUCATION REFORM – 2
      School should make Good Human Beings and Colleges/Institutes should make Good Professionals. Both will make this world a better place to live in.

      EDUCATION REFORM – 3
      Today’s Education System Makes Professionals but Not Humans!
      Today’s Education System Teaches how to make money but not to respect each other’s religion!
      Education System must focus on making Good Human Beings along with making Professionals, So that this World will be better place to live in.
      Today’s Education System only focus on Studies and how to become rich but does not focus on Preserving Nature, Good Manners, Not to Steal, not to keep eye on others property, to fear God, respect Elders, not to do Corruption, not to interfere in others business, not to say any bad things of other religion, respect all Religion, etc.
      ===========================================================================

      reply
    • altaf pathan

      AAP IS BEST

      reply
    • Arvind Kapur

      To fulfill the paucity of good teachers give age relaxation to teachers who are teaching in private schools due to policy of giving jobs to knowns or some consideration. Count the whole period of experience and let the teachers in private schools get opportunity to sit in entrance exams. You will get fine and experienced teachers for Delhi government education for new look schools

      reply
    • B Subramanyam Chennai

      fantastic job.continue good work more and more people join in your effort.For poor and midlrle class parents the cost of their children education became a unavoidable tension.Delhi education policy is agreat relief.

      reply
    • John Ferns

      AAP investing honestly in Education Sectors will make Indians Educated and this will make India, a Developed/Rich Country. Today, India is a Poor Country because there is No Investment in Education & Health Sectors. Government investing 50% in Education & Health Sectors will make India a Developed/Rich Country. Education will make Indians Educated and Health will make Indians Healthy. Educated & Healthy Indians will make India a Developed/Rich Country.

      reply
    • Vinod Poonia

      Expenditure on education is real investment which we will get with interest in future.

      reply

Leave a Reply to B Subramanyam Chennai Cancel reply