Scrollup

दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार ने भाजपा की केंद्र सरकार द्वारा आज जारी 2021-22 के बजट को दिल्ली की दो करोड़ आबादी के साथ सौतेला व्यवहार बताया है। दिल्ली के उपमुख्यंत्री एंव वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्रीय बजट 2021-22 पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली को फिर निराश किया है। दिल्ली को बजट में केवल 325 करोड़ रुपए मिले हैं, जबकि दिल्ली के लोग 1.5 लाख करोड़ रुपए का टैक्स केंद्र सरकार को देते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने भाजपा शासित एमसीडी को भी एक रुपए नहीं दिया है, जबकि देश भर के नगर निगमों के लिए 2 लाख करोड़ रुपए दिए गए हैं। एमसीडी चुनाव के वक्त भाजपा ने कहा था कि वे केंद्र सरकार से सीधे एमसीडी के लिए पैसा लाएंगे।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं वित्तमंत्री मनीष सिसोदिया ने केंद्र सरकार के बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने दिल्ली के साथ एक बार फिर सौतेला व्यवहार किया है। भाजपा की केंद्र सरकार से उम्मीद की जा रही थी कि इस बार दिल्ली के विकास और यहां रह रहे करीब दो करोड़ लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए अपने केंद्रीय बजट में केंद्रीय करों में हिस्सेदारी के बदले दिल्ली को मिलने वाले अनुदान में वृद्धि करेगी, लेकिन केंद्रीय बजट से दिल्ली को मायूसी मिली है। दिल्ली सरकार को केंद्रीय करो में हिस्सेदारी के बदले मिलने वाला अनुदान पिछले दो दशकों से बिना बढ़ोत्तरी के केवल 325 करोड़ रुपए ही रखा गया है। दिल्ली को केंद्रीय करों में मिलने वाली हिस्सेदारी 2001-02 से नहीं बढ़ाई गई है, जबकि विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं को फंड देने के लिए दिल्ली भी केंद्रीय करों में अपनी हिस्सेदारी की बराबर हकदार है।

वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि केंद्र सरकार ने दिल्ली को मिलने वाले कुल अनुदान, ऋण और हस्तांतरण के बजट को कम कर दिया है। इससे पहले दिल्ली सरकार को केंद्रीय बजट से कुल अनुदान, ऋण या हस्तांतरण के रूप 1116 करोड़ मिला था, जिसे घटा कर 957 करोड़ रुपए कर दिया गया है। वित्त मंत्री ने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने भाजपा शासित दिल्ली नगर निगमों को भी बीच मझधार में छोड़ दिया है। आर्थिक संकट से जूझ रहे नगर निगमों को केंद्रीय बजट से मदद मिलने की उम्मीद की जा रही थी। दिल्ली सरकार ने भी केंद्र सरकार से दिल्ली नगर निगमों को आर्थिक संकट से उबारने के लिए 12 हजार करोड़ रुपए की मांग की थी, इसके बावजूद केंद्र सरकार ने दिल्ली नगर निगमों के लिए एक रुपए का आवंटन नहीं किया है।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि केंद्र सरकार ने डिजाॅस्टर रिस्पाॅस का अनुदान भी कम कर दिया है। पिछली बार दिल्ली को इस मद में 161 करोड़ रुपए मिले थे, लेकिन इस बार इसे घटा कर मात्र 5 करोड़ रुपए कर दिया गया है। साथ ही, केंद्र सरकार ने विभिन्न परियोजनाओं को गति देने के लिए मिलने वाली अतिरिक्त केंद्रीय सहायता को शून्य कर दिया है, जबकि इससे पहले दिल्ली को इन परियोजनाओं के लिए 150 करोड़ रुपए अतिरिक्त केंद्रीय सहायता दी गई थी। उन्होंने कहा कि संवैधानिक रूप से दिल्ली के समान, केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर को दिल्ली को मिले 957 करोड़ के मुकाबले 30757 करोड़ रूपए का आवंटन किया गया है। माननीय केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री सहित दिल्ली के सभी 10 सांसदों को केंद्रीय बजट पास होने से पहले दिल्ली के नागरिकों के अधिकारियों के लिए संघर्ष करना चाहिए।


केंद्र शासित राज्य अनुदान (करोड़ में) जनसंख्या प्रति व्यक्ति अनुदान
दिल्ली 957 1.91 करोड़ 501
जम्मू-कश्मीर 30757 1.5 करोड़ 20,505
पुडूचेरी 1730 15 लाख 11,533

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

abhijeet