Scrollup

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि पांच फरवरी से नवीं और ग्यारहवीं कक्षाओं के लिए स्कूल खोले जाएंगे। उन्होंने डिग्री, पॉलीटेक्निक तथा आईटीआई संस्थाओं को भी खोलने की घोषणा की। उन्होंने अधिकारियों को कोरोना से सभी स्टूडेंट्स की सुरक्षा सुनिश्चित करने तथा पूरे परिसर में सफाई के बेहतर इंतज़ाम का निर्देश दिया। आज एक संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने यह घोषणा की।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दस महीने तक स्कूल व कॉलेज बंद होने के बाद अब परीक्षाओं व प्रैक्टिकल की तैयारियों के लिए खोला जा रहा है। इसलिए स्कूलों व कॉलेजों को दोबारा खोलने संबंधी पूरी व्यवस्था करना आवश्यक है। उपमुख्यमंत्री ने अधिकारियों को स्कूलों व कॉलेजों में जाकर कोरोना से बचाव के सभी नियमों का पालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि हर कक्षा में सामाजिक दूरी का पालन किया जाए, सैनिटाइजर की उपलब्धता हो, मास्क लगाना आवश्यक हो।

उपमुख्यमंत्री ने कहा परीक्षा से पहले छात्रों की बेहतर तैयारी और काउंसलिंग जरूरी है। इसलिए सतर्कता बरतते हुए स्कूलों व कॉलेजों को खोलने का निर्णय लिया गया है ताकि बच्चे अपने अभिभावकों की सहमति से विद्यालय आ सकें और परीक्षा से पहले वहां के माहौल में रम सकें। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि इससे पिछले एक साल के दौरान पढ़ाई में हुए नुकसान की भरपाई तो नहीं हो पाएगी, लेकिन बाकी बचे समय का सदुपयोग करना चाहिए।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा पहला फोकस शिक्षा संस्थानों को अच्छी तरह खोलने और कोरोना से सुरक्षा पर है। इसके बाद हम रिजल्ट पर फोकस करेंगे।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि दसवीं व बारहवीं की परीक्षा तैयारी के लिए 18 जनवरी को विद्यालयों को दोबारा खोल दिया गया। शुरुआत के दिनों में अभिभावकों के मन में कोरोना का भय था, इसलिए विद्यालयों में बच्चों की उपस्थिति कम रही। पर अब तैयारियों को देखकर अभिभावकों का आत्मविश्वास बढ़ा है। इससे विद्यालयों में जिन बच्चों को बुलाया जा रहा है, उनमे से लगभग 80% तक आ रहे हैं ।

शिक्षा विभाग नौंवी एवं ग्यारहवीं कक्षाओं के लिए दिशा-निर्देश जारी किया।

कक्षा नौंवी के लिए निर्देश:
•1 मार्च से विद्यालयों में प्रैक्टिकल,प्रोजेक्ट कार्य व आंतरिक मूल्यांकन आयोजित किया जाएगा। 20 मार्च से 15 अप्रैल के मध्य मध्यावधि परीक्षाएं 02:00PM से 5:30PM के बीच आयोजित की जा सकती है।वार्षिक परीक्षा शुरू होने से आंतरिक ग्रेड का मूल्यांकन पूर्ण हो जाना चाहिए।वार्षिक परीक्षा का प्रश्नपत्र कम किये गए पाठ्यक्रम के अनुसार होगा। पाठ्यक्रम शिक्षा विभाग के वेबसाइट से प्राप्त किया जा सकता है।

कक्षा ग्यारहवीं के लिए निर्देश:
• पीरियोडिक मूल्यांकन 1 व 2, फरवरी के अतिंम व मार्च के प्रथम सप्ताह में आयोजित की जा सकती है।1 अप्रैल से 15 अप्रैल के दौरान मध्यावधि, परीक्षाएं 02:00PM से 5:30PM के बीच आयोजित की जा सकती है।
शीतकालीन अवकाश के दौरान विद्यार्थियों को दिए गए प्रोजेक्ट कार्यों व होम असाइनमेंट का सब्जेक्ट एनरिचमेंट गतिविधि के रूप मूल्यांकन किया जाएगा।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

abhijeet