Scrollup

प्रेस रिलीज – 04/09/2019

जनसंवाद में फ्री बिजली पर मिल रहा 100% समर्थन

आई लव केजरीवाल पर मिलते जनसमर्थन से भाजपा नेता परेशान

अपने जनसंवाद यात्रा के चौथे दिन आम आदमी पार्टी ने बवाना और किराड़ी विधानसभा में लोगों से संवाद किया। बता दें कि यह जन संवाद यात्रा 1 सितंबर से दिल्ली की 70 विधानसभाओं में अलग-अलग दिन आयोजित की जा रही है जो अगले महीने की 3 तारीख तक नियमित रूप से चलेगी। यह जनसंवाद दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय के नेतृत्व में की जा रही है।

गोपाल राय ने बताया कि जन संवाद यात्रा के दौरान आई लव केजरीवाल कैम्पेन को जिस तरह से व्यापक समर्थन मिल रहा है उससे भाजपा नेताओं की बेचैनी बढ़ गई है। भाजपा के मनोज तिवारी का बयान भाजपा की बौखलाहट को दर्शाता है। भाजपा अरविंद केजरीवाल का जितना विरोध कर रही है जनता के अंदर अरविंद केजरीवाल को लेकर उतनी ही मोहब्बत बढ़ रही है। 200 यूनिट बिजली माफ करने की पहल ने केजरीवाल के प्रति जनता के लगाव को और बढ़ा दिया है।

जन संवाद में आज ख़ास तौर पर बिजली के मुद्दे पर चर्चा हुई। दोनों जनसंवाद में गोपाल राय ने दिल्ली की जनता को मिलने वाली बिजली पर विस्तृत चर्चा की। सबसे पहले उन्होंने याद दिलाया कि दिल्ली के लोगों को कभी अपने घरों में इनवर्टर रखना पड़ता था लेकिन आज वह इनवर्टर गैरज़रूरी हो गया है क्योंकि अब चौबीसों घंटे बिजली की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने चुटकी लेने के अंदाज़ में कहा कि सभा के बाद जब घर जाइए तो पता लगाइए कि भाजपा और कांग्रेस के जमाने में जिस इनवर्टर के बिना जीना मुश्किल था वह कहाँ है?
उन्होंने बताया कि आम आदमी पार्टी से पहले 15 साल लगातार कांग्रेस और उससे पहले 5 साल भाजपा की सरकार थी लेकिन दोनों में से किसी ने भी बढ़ते बिजली के बिल को लेकर गंभीरता नहीं दिखाई। उन्होंने सरकारों की सह पर बिजली कंपनियों द्वारा की जाने वाली लूट और उसके खिलाफ केजरीवाल द्वारा किए गए आंदोलन को लोगों के बीच रखा।

गोपाल राय ने वहाँ मौजूद लोगों से पूछा कि आज दिल्ली में बिजली बिल की क्या हालत है? कई लोगों ने एक साथ जवाब दिया कि अब बिजली बिल माफ हो गया है। गौरतलब है कि पिछले एक अगस्त से दिल्ली में 200 यूनिट तक कि बिजली पूरी तरह से फ्री है। वहाँ मौजूद एक दूसरे व्यक्ति ने बताया कि 200 से 400 यूनिट तक की बिजली के बिल में 50 प्रतिशत की छूट भी है। साथ ही उसने यह भी बताया कि दिल्ली में बिजली दर देश भर में सबसे कम है।

गोपाल राय ने कहा कि कुछ लोग आज-कल पार्कों में घूम-घूम कर यह कह रहे हैं कि अगर ऊपर-नीचे और बीच में एक ही पार्टी की सरकार हो जाये तो झकड़े खत्म हो जाएंगे और जनता का काम ज्यादा होगा। ऐसे लोगों से प्यार से एक बार ज़रूर पूछिए कि कौन से काम होंगे? हमारे बगल में एक तरफ हरियाणा है तो दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश है। दोनों जगहों पर ऊपर-नीचे और बीच में एक ही पार्टी की सरकार है। वहाँ बिजली, पानी और स्कूल की क्या हालत है वो आपसे छुपी नहीं है। कल तो उत्तर प्रदेश में फिर से बिजली बिल में 12 प्रतिशत की वृद्धि कर दी गयी। गोपाल राय ने लोगों से सवाल किया कि क्या आप ऊपर-नीचे और बीच में एक ही पार्टी को लाकर दिल्ली को हरियाणा और उत्तर प्रदेश जैसा बनाएंगे? लोगों ने एक सूर में जवाब दिया-नहीं।

आखिर में गोपाल राय ने पूछा कि कितने लोग बिजली बिल की इस माफी के समर्थन में हैं वहां मौजूद सभी लोग समर्थन में अपना हाथ हवा में लहराने लगें।

दिल्ली सरकार पर जो यह आरोप लगता है कि सबकुछ फ्री करने के चक्कर में टैक्स के पैसों को बर्बाद कर रही है उसका जवाब देते हुए गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली का बजट जो 29000 करोड़ का होता था, उसे केजरीवाल सरकार ने 60000 करोड़ कर दिया। इसके लिए उन्होने एक रुपए भी टैक्स नहीं लगाया बल्कि भ्रष्टाचार पर लगाम लगाया। वे देश के इकलौते ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने बिना टैक्स बढ़ाए भ्रष्टाचार रोककर बजट को दुगना कर दिया।

आखिर में गोपाल राय ने कहा कि मैं अलग- अलग पार्टियों के लोगों से भी एक बार दिल पर हाथ रख कर पूछना चाहता हूँ कि क्या दिल्ली में अरविंद केजरीवाल का कोई विकल्प है? लोगों ने ऊंचे स्वर में कहा-नहीं।

कार्यक्रम के दौरान बवाना और किराड़ी विधानसभा क्षेत्र से क्रमशः 58 और 40 मंडल प्रभारियों को नियुक्ति पत्र सौंपे गए। साथ ही बहुत सारे लोगों ने पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण की।

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

sudhir