The NDA government has betrayed the farmers. The country’s farmers are on the streets with their demands and the government is not listening to them. Before forming the government at the centre, the Bharatiya Janata Party had promised to pay adequate compensation to the farmers and to waive off their debt. They had made the same promise before forming governments in Madhya Pradesh, Chattisgarh, Maharashtra, Uttar Pradesh, Haryana, and Rajasthan. They have betrayed the farmers by going back on their promises and ignoring the plight of the farmers.

Favouring farmers’ demands, the Aam Aadmi Party organized a National Farmers Conference on 17th June to discuss with farmers’ leaders and to create a framework for nationwide movement.

17 जून को दिल्ली में AAP आयोजित करेगी राष्ट्रीय किसान कॉंफ्रेंस, किसानों की मांगों को लेकर देशव्यापी आंदोलन की तैयारी

बीजेपी सरकार ने किसानों को दिया धोख़ा, किसानों पर गोलियां चलवा रही है भाजपा सरकार: AAP

देश का किसान इस वक्त अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर है और देश की सरकार उनकी आवाज़ नहीं सुन रही है। आम आदमी पार्टी किसानों की मांगों के हित में 17 जून को दिल्ली में राष्ट्रीय किसान कॉंफ्रेंस आयोजित करने जा रही है जिसमें किसान नेताओं से बातचीत होगी और देशव्यापी आंदोलन की रुपरेखा तैयार की जाएगी। देश में भारतीय जनता पार्टी ने सरकार बनाने से पहले यह वादा किया था कि वो किसानों को उचित मुआवज़ा देगी और उनका कर्ज़ माफ़ करेगी, भाजपा ने यह वादा मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और हरियाणा-राजस्थान में भी राज्य चुनाव से पहले किया था, ना केवल देश में सरकार बनाने के बाद बल्कि इन सभी राज्यों में भी सरकार में आने के बाद बीजेपी ने किसानों को अनदेखा करके उनके साथ धोख़ा किया है।

पार्टी कार्यालय में आयोजित हुई प्रेस कॉंफ्रेंस में बोलते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने कहा कि ‘देश का किसान आज अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहा है क्योंकि किसानों को भारतीय जनता पार्टी ने वादा किया था कि अगर बीजेपी सत्ता में आती है तो ना केवल किसानों का कर्ज़ माफ़ होगा बल्कि किसानों को उनकी फ़सल का उचित दाम भी मिलेगा। लेकिन आज हालत ये है कि किसानों को अपनी इन्हीं मांगों को लेकर सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है और बीजेपी सरकार किसानों पर गोलियां चलवाकर उनकी हत्याएं करवा रही है।’

‘चाहे मध्यप्रदेश हो, महाराष्ट्र हो, उत्तर प्रदेश हो या फिर हरियाणा-राजस्थान। हर जगह भारतीय जनता पार्टी ने सरकार में आने से पहले सार्वजनिक तौर पर यह वादा किया था कि अगर बीजेपी सरकार में आती है तो किसानों की सभी मांगों को माना जाएगा और स्वामीनाथन रिपोर्ट को सशब्द लागू किया जाएगा। खुद प्रधानमंत्री ने अपने चुनावी भाषण में ये वादे किए थे। लेकिन अब मोदी जी किसानों की मांगों और पुलिस द्वारा उनकी हत्याओं पर एक शब्द तक नहीं बोल रहे हैं।’

‘आम आदमी पार्टी मांग करती है कि मंदसौर में किसानों पर गोलियां चलाकर उनकी हत्याएं करने वाले अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज़ किया जाए और उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जाए, किसानों को उनकी फ़सल की लागत में 50 फ़ीसदी मुनाफ़ा जोड़कर उन्हें स्पोर्ट प्राइस दिया जाए और किसानों के कर्ज़ माफ़ किए जाएं।’

’17 जून को आम आदमी पार्टी राजधानी में राष्ट्रीय किसान कॉंफ्रेंस आयोजित कर रही है जिसमें किसान नेताओं के साथ राउंड-टेबल बातचीत होगी जिसके बाद किसानों की मांगों को लेकर देशव्यापी आंदोलन की रुपरेखा तैयार की जाएगी। 17 जून को दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल जी भी इस कॉंफ्रेंस के दूसरे सत्र में शिरक़त करेंगे।’

When expressing your views in the comments, please use clean and dignified language, even when you are expressing disagreement. Also, we encourage you to Flag any abusive or highly irrelevant comments. Thank you.

dilip.panicker@gmail.com

Leave a Comment